1 लाख का इन्वेस्मेंट 800 करोड़ का टर्नओवर, छोटी सी उम्र में करने लगी करोड़ों का क़ारोबार

23 साल की निधि गुप्ता का अपना करोड़ो का कारोबार है. असल में कामयाबी के लिए ज़िंदगी में कोई उम्र की सीमा नहीं होती है तभी इतनी कम उम्र में निधि ने खुद को साबित किया है. ‘सेल्फ मेड’ करोड़पति निधि गुप्ता इन्हीं प्रतिभाशाली युवाओं में एक हैं, जिनकी सफलता देखकर सच में कुछ कर
 | 
1 लाख का इन्वेस्मेंट 800 करोड़ का टर्नओवर, छोटी सी उम्र में करने लगी करोड़ों का क़ारोबार

23 साल की निधि गुप्ता का अपना करोड़ो का कारोबार है. असल में कामयाबी के लिए ज़िंदगी में कोई उम्र की सीमा नहीं होती है तभी इतनी कम उम्र में निधि ने खुद को साबित किया है. ‘सेल्फ मेड’ करोड़पति निधि गुप्ता इन्हीं प्रतिभाशाली युवाओं में एक हैं, जिनकी सफलता देखकर सच में कुछ कर गुजरने की चाहत पैदा होती है.

कौन है निधि गुप्ता

1 लाख का इन्वेस्मेंट 800 करोड़ का टर्नओवर, छोटी सी उम्र में करने लगी करोड़ों का क़ारोबार
Image Source:Social Media

राजस्थान के एक मध्यमवर्गीय परिवार में पैदा लेने वाली निधि के पिता राजस्थान वन विभाग में साधारण कर्मचारी हैं. दरअसल साल 2011 में निधि ने अपने भाई के साथ मिलकर खुद का एक प्रोजेक्ट शुरू किया. हालांकि इस योजना को लेकर निधि के पास उतनी पूंजी तो नहीं थी लेकिन उनका हौसला फिर भी नहीं हारा.

मात्र 1 लाख 37 हजार रुपये से शुरू किया था बिजनेस

सीमित संसाधनों के साथ उन्होंने कारोबार शुरू किया और फिर 1,37,000 रूपये की मामूली पूंजी के साथ अपने सपने की नींव रखी. पहला प्रोजेक्ट बीकानेर में 4 बीघे जमीन में एक 250 किलोवाट का सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट लगाना था. निधि के लिए इतना बड़ा साम्राज्य स्थापित करना बेहद संघर्षपूर्ण था. अपने बड़े भाई राहुल और इस बिजनेस को शुरू करने के उनके संघर्षों के बारे में मीडिया से बातचीत में बताया कि कैसे वो कंपनी शुरुआत के पहले एक वर्ष में ही 2 करोड़ का टर्नओवर कर ली. साल 2013 में टर्नओवर 70 करोड़ तक पहुँच गया.

वो कहते हैं न जहाँ चाह वहां राह

1 लाख का इन्वेस्मेंट 800 करोड़ का टर्नओवर, छोटी सी उम्र में करने लगी करोड़ों का क़ारोबार
Image Source: Social Media

दरअसल निधि ने कोलायत में 130 एकड़ में फैला एक सौर पार्क बनाया है और इसकी कुल क्षमता 50 मेगावाट है. जिसने कई अलग-अलग निवेशकों ने निवेश किया है. 2013 में, रेज़ पॉवर ने भारत के सबसे बड़े में से एक, लगभग 300 एकड़ के क्षेत्र में गजनेर में एक और सौर पार्क स्थापित किया.

वही अगर हालिया वर्षों की बात करें तो भारत के विभिन्न हिस्सों और विदेशों से 60 से अधिक निवेशकों ने लगभग 200 मेगावाट की संचयी क्षमता के साथ निवेश किया. अबतक इन दोनों भाई बहन मिलकर कुल 500 मेगावाट की परियोजनाओं को सफलतापूर्वक संपन्न किया है.

दुनिया में ऐसा कोई भी काम नहीं जो मुमकिन न हो बस उसकी चाहत और करने का जज्बा इंसान में होना चाहिए. हर इंसान के पास उसका आईडिया होता है बस जरूरत होता है उसे परख़ने की. जो परख़ने में कामयाब हो जाते, वो सफलता की ओर अपना पहला कदम बढ़ा चुके होते.