पेट्रोल पंप पर काम करते हैं पिता...बेटी ने सच किया सपना, IIT कानपुर में लहराया परचम

 | 
petrol pump attendants daughter securing entry in iit kanpur

यह प्रेरणादायक कहानी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के अध्यक्ष श्रीकांत माधव वैद्य ने ट्विटर पर शेयर की। श्रीकांत माधव वैद्य ने एक पेट्रोल पंप अटेंडेंट की बेटी की प्रशंसा के लिए एक पोस्ट शेयर की है। जिसने उच्च शिक्षा के लिए देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक IIT Kanpur में दाखिला पाया है। 

आपक बता दे, केरल में इंडियन ऑयल पेट्रोल स्टेशन पर एक ग्राहक परिचारक की बेटी आर्या राजगोपालन (Arya Rajagopalan) ने आईआईटी कानपुर (IIT Kanpur) में एक उपलब्धि हासिल की है, जिसकी सोशल मीडिया पर लोग खूब तारीफ कर रहे हैं। इस खबर की घोषणा करते हुए, श्रीकांत वैद्य ने ट्विटर पर लिखा:-


“मैं इंडियनऑयल के कस्टमर अटेंडेंट राजगोपालन की बेटी आर्य की कहानी साझा करता हूं। आर्य ने आईआईटी कानपुर में दाखिला हासिल करके हमें गौरवान्वित किया है।” 

पोस्ट के साथ, उन्होंने बेटी-पिता की पेट्रोल पंप पर ली गई एक तस्वीर साझा की।  जहां उन्होंने पिछले 15 वर्षों से काम किया। इंडियन ऑयल के चेयरमैन ने ट्वीट किया, “ऑल द बेस्ट एंड वे टू गो आर्या!” 

केंद्रीय मंत्री ने भी की सराहना

माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर इस पोस्ट को अबतक 12 हजार से ज्यादा लाइक्स  मिल चुके हैं। कमेंट सेक्शन में कई लोगों ने आर्या की कड़ी मेहनत की तारीफ की है। केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट कर IIT छात्र को शुभकामनाएं दीं। उन्होंने लिखा:-


"आर्या राजगोपाल ने अपने पिता श्री राजगोपाल जी और देश के ऊर्जा क्षेत्र से जुड़े हम सभी को बेहद गौरवान्वित किया है।"

20 वर्षों से पिता कर रहे हैं ये काम

इस तस्वीर में बेटी (आर्या) अपने पिता के साथ खड़ी नजर आ रही है। दोनों केरल के उस इंडियन ऑयल पेट्रोल स्टेशन पर मौजूद हैं, जहां आर्या के पिता राजागोपालन एक कस्टमर अटेंडेंट के रूप कार्यरत हैं। कहानी वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पिता की मेहनत और बेटी के जज्बे की खूब सराहना की जा रही है।

Petrol

रिपोर्ट्स के अनुसार, आर्या के पिता ने पिछले 20 वर्षों से लगातार पेट्रोल पंप पर काम किया। ताकि उनकी बेटी का भविष्य उज्जवल हो। बता दें, आर्या ने स्नातक की पढ़ाई राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (NIT) से पूरी की, जो एक और प्रेरक उपलब्धि है।