बिहार के दो छात्र हुए 'मालामाल', खाते में अचानक आये 960 करोड़ रुपए!

 | 
Bank

बिहार में सरकारी लापरवाही से लोगों के खातों में करोड़ों रुपये आने का सिलसिला जारी है। एक बार फिर से बैंक की गलती से एक गलत अकाउंट में भारी-भरकम रकम ट्रांसफर होने की खबर सामने आई हैं। मामला जिले के बघोड़ा पंचायत के पसतिया गांव का है, जहां स्कूली बच्चों के खाते में 960 करोड़ रुपये से भी अधिक की राशि पाई गई है। 

स्कूली छात्रों के बैंक अकाउंट में इतने रुपये देखकर अधिकारी भी आश्चर्यचकित हैं। वहीं इस बात का पता लगते ही लोगों ने भी अपने अकाउंट चेक करने शुरू कर दिए। इसके चलते बैंक  में लोगों की लाइन लग गई। बैंक और सीएसपी केंद्र के बाहर लंबी-लंबी लाइन लग रही है। कुछ लोग जहां अधिकारियों की लापरवाही की बात कर रहे हैं तो वहीं कुछ लोग ये कह रहे हैं कि मोदी सरकार ने पैसे दिए हैं। वह अपने वादे निभा रहे हैं।  

बैंक बैलेंस चेक करने गए थे छात्र 

Bihar News

दोनों छात्र आजमनगर थाना के बघौरा पंचायत के रहने वाले हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार सरकार द्वारा स्कूल ड्रेस के लिए भेजे जाने वाले पैसों की जानकारी के लिए आजमनगर थाना क्षेत्र के पस्तिया गांव के दो स्कूली बच्चे SBI  के सीएसपी सेंटर पहुंचे, तो उन्हें अकाउंट में करोड़ों रुपये होने की बात बता चली। 

बच्चों के खाते में इतनी बड़ी रकम देख सीएसपी संचालक भी हैरान रह गए। वहीं, ये बात आग की तरह पूरे इलाके में फैल गई, जिसके बाद देखते ही देखते खाता चेक करवाने हेतु सीएसपी में लंबी कतार लग गई। 

960 करोड़ रुपये आए

Money

मीडिया खबरों के अनुसार, असित कुमार के एकाउंट में 900 करोड़ से ज्यादा की धनराशि है. वहीं, गुरुचंद्र विश्वास के खाते में 60 करोड़ रुपये से अधिक डिपॉजिट है। दोनों छात्रों की राशि मिलकर 960 करोड़ रूपये हो जाती है। दोनों खाता उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक भेलागंज शाखा का है। 

Money

वंही जब बैंक मैनेजर को इस बारे जानकारी हुई तो उन्होंने दोनों खातों से भुगतान पर रोक लगा दी। उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जा रही है। बैंक के सीनियर ऑफिसर्स को इस बारे में सूचना दे दी गई है। अब दोनों बच्चों के खातों को फ्रीज कर दिया है। मामले की जांच की जा रही हैं। 

डीएम साहब की तरफ से आई सच्चाई!

वैसे कटिहार वाले मामले में पता चल गया था कि दो बच्चों के खाते में कुल 967 करोड़ रुपये कैसे आ गए थे। दरअसल, पैसे आए नहीं थे, बल्कि सॉफ्टवेयर में किसी गड़बड़ी की वजह से इतनी बड़ी रकम दिख रही थी। जो कि डीएम साहब ने मीडिया को बताया। वंही इससे पहले खगड़िया जिले में एक बड़ा ही दिलचस्प मामला सामने आया था।