परिवार में 12 लोग, लेकिन मिला सिर्फ 1 वोट...सरपंच बनने का ख्वाब टूटा तो फूटकर रोया प्रत्याशी

 | 
santosh

चुनाव, कौन जीतेगा-कौन हारेगा, कितने वोट मिलेंगे कुछ तय नहीं होता। लगाए जा सकते है तो सिर्फ कयास। लेकिन परिवार से ही कोई प्रत्याशी हो और परिवार वाले ही उसे वोट ना दें तो? जरा सोचिये उस सख्स की हालत क्या होगी।  ऐसा ही एक मामला सामने आया है, गुजरात से जंहा परिवार में 12 सदस्य है लेकिन प्रत्याशी को मिला सिर्फ 1 वोट, बो भी खुद का। क्या है पूरा मामला? आइये आपको समझाते है। 

दरअसल, गुजरात में हाल ही में ग्राम पंचायत चुनाव (Gujarat Gram Panchayat) हुए। इन चुनावों के नतीजों के बीच एक प्रत्याशी को मिला सिर्फ एक वोट। 

santosh

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, गुजरात के वापी जिले में छरवाला गांव है।  छरवाला के संतोष हलपति प्रधान बनने की ख्वाहिश के साथ चुनावी मैदान में उतरे। उन्हें भरोसा था कि परिवार के 11 लोगों के साथ-साथ गांव के अन्य लोग भी उन्हें वोट जरूर देंगे। लेकिन जब मतगणना हुई तो संतोष को तगड़ा झटका लगा। उन्हें सिर्फ एक वोट मिला, यानी परिवार के 11 लोगों ने भी उन्हें वोट नहीं दिया। 

जानकारी के मुताबिक़, इस प्रत्याशी का नाम संतोष है। संतोष ने सरपंच के पद के लिए इलेक्शन लड़ा था। संतोष वापी डिस्ट्रिक्ट के छावला गांव में सरपंच का प्रत्याशी था। जब चुनाव का नतीजा आया तो संतोष के होश उड़ गए। ये संख्या संतोष के लिए सबसे शर्मनाक इसलिए हुई क्यूंकि उसके घर में ही 12 सदस्य थे।  ऐसे में संतोष को उम्मीद थी कि उसे कम से कम तो 12 वोट मिलेंगे. लेकिन उसके घरवालों ने ही उसे धोखा दे दिया। 

यह जानकर संतोषभाई भावुक हो गए। मतगणना केंद्र पर ही फूट-फूटकर रोने लगे। दर्द यह था कि परिवार के लोगों ने ही उनपर भरोसा नहीं जताया, तो गांव के अन्य लोग कैसे भरोसा करेंगे। 

पत्नी ने भी वोट नहीं दिया

संतोष हलपति कहते हैं, ‘यह चुनाव है। इसमें लोगों की मर्जी चलती है। लोगों को जिस प्रत्याशी पर भरोसा होगा, उसी को वे वोट करेंगे।’ मतदान केंद्र में जब संतोष भाई फूट-फूटकर रोने लगे तो उन्हें लोगों ने समझा-बुझाकर शांत कराया, फिर घर भेजा। संतोष भाई को इस बात पर भी हैरानी है कि उन्हें उनकी पत्नी ने भी वोट नहीं दिया। 

santosh

अब सरपंच के प्रत्याशी संतोष का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें वह बहुत दुखी दिखाई दे रहा है। 

santosh one vote

एक ग्रामीण ने कहा कि, जब छरवाला गांव का चुनाव परिणाम घोषित हुआ तो संतोष काउंटिंग सेंटर पर ही फफरकर रोने लगा। उसके रोने के कारण वहां भीड़ जमा हो गई। लोगों ने उसे शांत कराया और कहा कि हार-जीत तो लगी रहती है। हालांकि, बहुत से लोग इस बात से हैरान थे कि, उसे सिर्फ एक वोट मिला है।