‘अभी होटल नहीं, बाद में हॉस्पिटल नहीं मिलेगा’…ये तस्वीरें बताती है हमने कोई सबक नहीं सीखा

देश में अभी कोरोना का खतरा टला नहीं है और वैज्ञानिक लगातार कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट (Delta Plus) और थर्ड वेव (Corona Third Wave) को लेकर सावधान रहने की हिदायत दे रहे हैं। वंही हिमाचल से आई कुछ तस्वीरो ने कई बड़े सवाल खड़े कर दिए है। हिमाचल प्रदेश में कोविड कर्फ्यू में ढील
 | 
‘अभी होटल नहीं, बाद में हॉस्पिटल नहीं मिलेगा’…ये तस्वीरें बताती है हमने कोई सबक नहीं सीखा

देश में अभी कोरोना का खतरा टला नहीं है और वैज्ञानिक लगातार कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट (Delta Plus) और थर्ड वेव (Corona Third Wave) को लेकर सावधान रहने की हिदायत दे रहे हैं। वंही हिमाचल से आई कुछ तस्वीरो ने कई बड़े सवाल खड़े कर दिए है।

हिमाचल प्रदेश में कोविड कर्फ्यू में ढील मिलने और पड़ोसी राज्‍यों में पड़ रही गर्मी के बीच यहां पर्यटन स्‍थल पूरी तरह से पैक हो गए हैं। पर्यटन नगरी मनाली ओवर क्राउडेड हो गई है। राज्य सरकारों द्वारा लॉकडाउन की पाबंदियां हटाते ही इन डेस्टिनेशंस पर टूरिस्ट की भीड़ इकट्ठा होने लगी है।

सड़कों पर जाम और पार्किंग की दिक्कतों से भी दो-चार होना पड़ रहा है। साथ ही इन स्थानों पर भीड़ बढ़ने से कोरोना संक्रमण की आशंका बढ़ गई है। हालांकि लॉकडाउन के खुलने से पर्यटन क्षेत्र को कमाई की संभावनाएं भी बढ़ गई हैं।

उत्तर भारत में चल रही लू के बीच लोगों का सैलाब भीषण गर्मी से बचने के लिए शिमला, कुफरी, नारकंडा, डलहौजी, मनाली, लाहौल और दूसरे पहाड़ी इलाकों में पहुंच गया है। बीते दिनों मनाली (Manali) से एक ऐसी तस्वीर भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसमें मॉल रोड पर भारी भीड़ नज़र आ रही है।

अभी होटल तो बाद में हॉस्पिटल फुल

‘अभी होटल नहीं, बाद में हॉस्पिटल नहीं मिलेगा’…ये तस्वीरें बताती है हमने कोई सबक नहीं सीखा
Image Source: Dainik Jagran

मनाली में पर्यटकों की उमड़ी भीड़ बड़े खतरे का कारण बन सकती है। यही कारण है पर्यटन नगरी मनाली ट्विटर पर कोविड की तीसरी लहर के साथ ट्रेंड कर रहा है। ट्विटर पर यूजर लिख रहे हैं मनाली में भीड़ उमड़ी है और होटल में बेड फुल हैं, यही हाल रहा तो जल्‍द ही अस्‍पताल में भी बेड फुल की स्थिति दोबारा देखने को मिल सकती है।

शनिवार को मनाली में तीन हजार पर्यटक वाहन पहुंचे, जबकि रविवार को यह आंकड़ा 1800 रहा। वीकेंड पर हजारों पर्यटक वाहन मनाली पहुंचे। शिमला, मनाली और धर्मशाला जैसे ज्यादातर बड़े टूरिस्ट स्पॉट पर होटल पूरी तरह से भर चुके हैं। कई टूरिस्ट को तो होटेल रूम न मिलने की वजह से मजबूरन गाड़ियों में ही रात बितानी पड़ रही है।

जबकि कुछ लोगों को कम पॉपुलर टूरिस्ट स्पॉट के गेस्ट हाउस में ठहरना पड़ रहा है। मसूरी में गांधी चौक, कुलड़ी बाजार से लेकर मालरोड तक टूरिस्ट की भीड़ इकट्ठा है। पर्यटक मनाली पहुंचने के बाद अटल टनल रोहतांग, लाहुल स्‍पीति व रोहतांग दर्रे का रुख कर रहे हैं।

दिन में तो पर्यटक इन पर्यटन स्‍थलाें का रुख कर लेते हैं। लेकिन शाम को हजारों की संख्‍या में पर्यटक मालरोड पर पहुंच जाते हैं। इस कारण स्थिति‍ भयावह बन रही है। हालांकि कई जगह पर्यटक बिना मास्क के नजर आए और सोशल डिस्टेंसिंग की परवाह किए बिना ग्रुप में घुमते मिले।

जो तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की गई है उसे देखने के बाद तो यह कहा जा सकता है कि यह कोरोना वायरस की तीसरी लहर को न्योता देने जैसा है। ऐसी भी किसी रैली में ही उपस्थित होती है। कई यूजर्स ने इस पर गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि लोगों की लापरवारी महंगी पड़ने वाली है।

एक ट्विटर यूजर ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि अभी होटल नहीं मिल रहे हैं और बाद में हॉस्पिटल नहीं मिलेगा।