विधानसभा ने बनाई अपनी स्पेशल डिक्शनरी, अब ‘फेंकू, पप्पू, चोर’ जैसे शब्द नहीं बोल सकेंगे माननीय

लोकसभा हो विधानसभा राजनीति में सूचिता की कमी अक्सर देखने को मिलती रहती है। राजनेता अपनी सीमाएं लांघ अमर्यादित तौर तरीके से एक-दूसरे पर आरोप लगाते हैं और उन्हें अपमानित करने की कोशिश करते हैं। मगर अब ऐसा नहीं चलेगा मध्य प्रदेश की विधानसभा में। मध्य प्रदेश विधानसभा में अब सदस्य पप्पू, फेंकू, बंटाधार, चोर,
 | 
विधानसभा ने बनाई अपनी स्पेशल डिक्शनरी, अब ‘फेंकू, पप्पू, चोर’ जैसे शब्द नहीं बोल सकेंगे माननीय

लोकसभा हो विधानसभा राजनीति में सूचिता की कमी अक्सर देखने को मिलती रहती है। राजनेता अपनी सीमाएं लांघ अमर्यादित तौर तरीके से एक-दूसरे पर आरोप लगाते हैं और उन्हें अपमानित करने की कोशिश करते हैं। मगर अब ऐसा नहीं चलेगा मध्य प्रदेश की विधानसभा में।

मध्य प्रदेश विधानसभा में अब सदस्य पप्पू, फेंकू, बंटाधार, चोर, झूठा, मूर्ख सहित अन्य शब्दों का उपयोग नहीं कर पाएंगे। ऐसे कई असंसदीय शब्दों की सूची विधानसभा सचिवालय तैयार कर रहा है। जिससे माननीय सदस्य अमर्यादित शव्दो के प्रयोग से बच सके।

अमर्यादित शव्दो की स्पेशल डिक्शनरी

विधानसभा ने बनाई अपनी स्पेशल डिक्शनरी, अब ‘फेंकू, पप्पू, चोर’ जैसे शब्द नहीं बोल सकेंगे माननीय
Amar Ujala

आपको बता दे, 9 अगस्त से मध्यप्रदेश में विधानसभा का मानसून सत्र है। विधानसभा में नेता मर्यादित तौर तरीके से बात करें इसे लेकर विधानसभा ने पहले ही आगाह कर दिया है।

इसके साथ ही असंसदीय शब्दों का शब्दकोश बना दिया गया है। और विधायकों को दो दिन की स्पेशल ट्रेनिंग भी दी जाएगी, जिसमें उन्हें बताया जाएगा कि असंसदीय भाषाओं का इस्तेमाल क्यों नहीं करें और कैसे बचें। विधायकों को 300 शब्द की डिक्शनरी दी जाएगी। इसमें असंसदीय शब्दों को रखा गया है।

विधानसभा ने बनाई अपनी स्पेशल डिक्शनरी, अब ‘फेंकू, पप्पू, चोर’ जैसे शब्द नहीं बोल सकेंगे माननीय
Social Media

दैनिक जागरण की एक रिपोर्ट के अनुसार, असंसदीय शब्दों की डिक्शनरी को तैयार करने में 3 महीने लगे। इसमें 300 शब्द हैं। इसमें फेंकू, बेवकूफ, मूर्ख, पप्पू, चोर, नालायक जैसे शब्द शामिल हैं।

कई बार आवेग में सदन में ऐसे शब्दों का उपयोग हो जाता है, जिन्हें कार्यवाही से विलोपित करना पड़ता है। ऐसे शब्दों का उपयोग सदस्य न करें, इसके लिए मार्गदर्शिका तैयार कराई गई है। विधायकों को यह प्रशिक्षण भी दिया जाएगा कि किस तरह उन्हें प्रश्न पूछने चाहिए ताकि उत्तर सदन में ही मिल जाए।

विधानसभा ने बनाई अपनी स्पेशल डिक्शनरी, अब ‘फेंकू, पप्पू, चोर’ जैसे शब्द नहीं बोल सकेंगे माननीय
Zee News

इसके साथ-साथ सदन की कार्यवाही के दौरान जिन शब्दों को समय-समय पर विलोपित किया गया है, उन्हें शामिल करते हुए मार्गदर्शिका तैयार की जा रही है। कोशिश यही है कि विधानसभा सत्र के पहले यह सदस्यों को वितरित कर दी जाए। बताया जा रहा है कि इसमें नालायक, बेवकूफ सहित अन्य शब्दों को भी शामिल किया गया है।

आपको बता दे, लोकसभा में पहले ही ऐसे शब्दकोश बना हुआ है। इसके जरिए सांसदों को ऐसे शब्दों को बोलने से रोका जाता है। उसी के तर्ज पर मध्यप्रदेश में ये डिक्शनरी तैयार की गई है।