डकैती के बाद साइकिल पर बेखौफ भागे बदमाश, आप वीडियो देख कह उठेंगे- ऐसे कौन करता है भाई!

 | 
Kanpur dakaiti

उत्तर प्रदेश का कानपुर (Kanpur) शहर से एक एक बड़ी डकैत की खबर सामने आई है। डकैतों ने शुक्रवार देर रात शिवम इंक्वेल में धावा बोल आशा गुप्ता (75) को चाकू और साबड़ के दम पर बंधक लिया। इसके बाद उनकी पिटाई कर अलमारी और बक्से में रखा नगदी समेत करीब 14 लाख रुपये के जेवरात लूट ले गए। फ़िलहाल कानपुर पुलिस (Kanpur Police) इन बदमाशों की तलाश कर रही है। 

वारदात में बदमाशों ने कितने की लूट की, इससे ज्यादा चर्चा इस बात का है कि आरोपी कितने आराम से इलाके से निकल गए, और किस तरह से निकले दोनों इस बक्त सोशल मीडिया से लेकर प्रदेश भर में चर्चा का विषय बना हुआ है। कब क्या हुआ और क्या है कानपुर डकैतों की चर्चा विषय, आपको विस्तार से बताते है। 

नकाबपोश डकैतों ने दिया घटना को अंजाम

Kanpur Dakaiti

दरअसल जिस फ्लैट में डकैती पड़ी, वहां एक 75 साल की महिला अकेली रहती हैं। उनका बड़ा बेटा साफ्टवेयर इंजीनियर आशुतोष परिवार संग राजस्थान में रहता है। जबकि उनका छोटा बेटा साफ्टवेयर डेवलपर अविनाश अपने परिवार संग दिल्ली में रहता है। बेटी की शादी हो चुकी है। जिस परिवार के घर डकैती की बारदात हुई उस महिला बुजुर्ग का नाम आशा गुप्ता है। उनके पति का देहांत हो चुका है। 

आशा ने बताया कि गुरुवार देर रात करीब सवा दो बजे वह अपने कमरे में भजन किर्तन कर रहीं थी। तभी किसी ने उनका दरवाजा खटखटाया। पूछने पर किसी की आवाज नहीं आई। इस बीच बदमाशों ने रॉड लगाकर दरवाजे का लॉक तोड़ दिया। इसबीच जबतक बह कुछ समझ पाती, लॉक तोड़कर दाखिल हुए नकाबपोश बदमाशों ने उन्हें दबोच लिया।

kanpur Dakaiti

उन्होंने आशा गुप्ता से मारपीट की, फिर उन्हें बांध दिया। एक बदमाश ने उनके गले पर चाकू लगा दी। शोर मचाने पर जान से मारने की धमकी देते हुए घर में रखे जेवरात और रुपये पूछे। इसीबीच बाकी तीन बदमाशों ने पूरा घर खंगाल लिया। 

Kanpur Dakaiti

डकैतों ने अलमारी और बक्सों के ताले तोड़कर पौने दो लाख रुपये की नकदी और करीब 14 लाख रुपये के जेवर लूट लिए। इधर गर्दन पर चाकू रखा बदमाश उनके कान की बाली, चार सोने के कंगन, अंगूठी चेन नोंच ली। इस दौरान डकैतों ने उन्हें बुरी तरह से पिटाई भी की। जिससे उनका चेहरा काला पड़ गया।

वादरात को अंजाम देने केबाद डकैत वहां से भाग निकले। उनके जाने के काफी  देर बाद वह घिसटते हुए बालकनी में पहुंची और गार्ड वीरेंद्र वर्मा को आवाज लगाई। चूँकि बदमाशों ने पहले ही अपार्टमेंट के गार्ड वीरेंद्र शर्मा को बंधक बना दिया था, जिसके बाद उनके पडोसी मौके पर पहुंचे। 

‘कानपुर में ही मिलेंगे ऐसे डकैत’


आप कहेंगे ये तो आए दिन की खबर है। सही बात है, लूट, डकैती की खबरें तो हम रोज पढ़ते हैं। तो इसमें क्या खास बात है? तो भइया ख़ास इसमें डकैतों का रुतबा है, जो इस मेट्रो सिटी में डकैती कर साईकिल से भाग निकले बो भी टहलते हुए। यकीन नहीं होता तो देखिये जरा ये वीडियो। 

यंहा देखिये डकैतों का वायरल वीडियो:-


डकैती के आरोपियों को तलाश रही पुलिस ने यह सीसीटीवी फुटेज जारी किया है। इसमें दो बदमाश डकैती के बाद आराम से साइकिल से जाते हुए दिख रहे हैं। जैसे फुरसत के पलों में कोई गार्डन में घूमता है ना, बिल्कुल वैसे ही। चर्चा इस बात का है कि आरोपी कितने आराम से इलाके से निकल गए। वे जिस तरीके से साइकिल चला रहे हैं, उसे देखकर लग ही नहीं रहा कि उन्होंने कुछ देर पहले किसी अपराध को अंजाम दिया है। 

डकैतों के वीडियो में जनमानस की प्रतिक्रिया


वीडियो  को देखकर सोशल मीडिया पर लोग अलग-अलग तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं। लोग लिख रहे है कि, पूरा भारत घूम लीजिए। लेकिन डकैती डालकर साइकिल से लौटने वाले सिर्फ कानपुर में ही मिलेंगे। वंही एक अन्य यूजर लिखता है कि, कानपुर की सुरक्षा व्यवस्था इतनी चौकस है कि डकैती डालकर कोई आराम से साइकिल से भी निकल लेता है। देखिए ना, गोविंद नगर में डकैती डालने के बाद कैसे आराम से जा रहे हैं आरोपी। 

पुलिस ने क्या किया?

पीड़िता आशा गुप्ता ने थाने में शिकायत की तो पुलिस ने मामूली चोरी की शिकायत दर्ज की। थाने की पुलिस लगातार घटना चोरी ही बता रही थी। जब मामला अफसरों तक पहुंचा तब उन्होंने थाना प्रभारी अनूप सिंह को लाइन हाजिर किया।  इसके बाद महिला की शिकायत के आधार पर दर्ज FIR में डकैती की धारा जोड़ी गई। एडीसीपी साउथ डॉ. अनिल कुमार ने इस पूरे मामले की जांच की।

पुलिस कमिश्नर ने लाइन हाजिर कर इंस्पेक्टर के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिए हैं। उधर पुलिस कमिश्नर ने डकैतों के बारे में सूचना देने वाले को दस हजार रुपये ईनाम देने की घोषणा की है। साथ ही डकैतों की पहचान के लिए सीसीटीवी फुटेज भी आम लोगो के बीच सोशल मीडिया पर जारी किया है।