फार्मा कंपनी पर IT छापा, नोटों से भरी अलमारी देख पब्लिक बोली- ये Squid Game का विजेता होगा

 | 
Hetero

आयकर विभाग ने हैदराबाद (Hyderabad ) में एक फार्मास्युटिकल ग्रुप (pharmaceutical group) की तलाशी ली है, जिसमें लगभग 143 करोड़ रुपए कैश और 550 करोड़ रुपए की बेहिसाब आय का पता चला है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (CBDT) ने कहा कि छह अक्टूबर को राज्यों के 50 स्थानों पर छापेमारी की गई थी और अब तक लगभग 550 करोड़ रुपए की बेहिसाब आय का पता चला है।

विभाग ने कहा कि ये फार्मास्युटिकल समूह इंटरमीडिएट, एक्टिव फार्मास्युटिकल प्रोडक्ट (एपीआई) और फॉर्मूलेशन का काम करता है। अधिकांश प्रोडक्ट का निर्यात विदेशों यानी यू.एस.ए, यूरोप, दुबई और अन्य अफ्रीकी देशों में किया जाता है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने कहा, 'तलाशी के दौरान, कई बैंक लॉकर मिले हैं, जिनमें से 16 लॉकर संचालित किए गए थे। तलाशी में अब तक 142.87 करोड़ रुपये की अघोषित कैश जब्त किया गया है।'

नोटों से भरी अलमारी देख पब्लिक बोली-

Indian Rupees
Image Source: NaiDunia

नोटों से भरी अलमारी की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर छा चुकी है। दावा किया जा रहा है कि ये फोटो हाल ही आयकर विभाग (Income Tax) द्वारा हैदराबाद स्थित हेटरो फार्मास्यूटिकल समूह (Pharmaceutical Group) पर छापेमारी की है, जिसमें 142 करोड़ रुपये से अधिक नगदी बराबद की गई। अब इस पर यूजर्स अलग अलग तरह से रियेक्ट कर रहे है। 

यंहा देखिये यूजर्स का रिएक्शन 


यह तस्वीर ट्विटर यूजर @GabbbarSingh ने शेयर की। उन्होंने कैप्शन में लिखा- हैदराबाद में एक फार्मा कंपनी पर आईटी रेड में यह खुलासा हुआ। मुझे लगता है कि उन्होंने सारे कपड़े लॉकर में रखें होंगे।


 


142 करोड़ रुपये से ज्यादा कैश बरामद

जानकारी के मुताबिक, कंपनी के विभिन्न ठिकानों पर लगभग 143 करोड़ रुपये नकद समेत कुल 550 करोड़ रुपये की बेहिसाब आय का पता चला है। कंपनी के एक ऑफिस की अलमारियों में करोड़ों रुपए के बंडल रखे थे। बयान में कहा गया है, 'अब तक सामने आई बेहिसाब आय करीब 550 करोड़ रुपये के आसपास होने का अनुमान है। अधिकारियों ने बताया कि आगे की जांच और अघोषित आय का पता लगाया जा रहा है।

दुनियाभर में दबाइयाँ सप्लाई करता है हेटेरो 

यह फार्मास्युटिकल समूह इंटरमीडिएट, एक्टिव फार्मास्युटिकल सामग्री (एपीआई) और फॉर्मूलेशन के व्यवसाय में लगा हुआ है। अधिकांश उत्पादों का निर्यात विदेशों यानी यू.एस.ए, यूरोप, दुबई और अन्य अफ्रीकी देशों में किया जाता है। 

हेटेरो के पास दुनिया भर में 36 अत्याधुनिक विनिर्माण सुविधाएं हैं, जो प्रमुख चिकित्सीय श्रेणियों जैसे HIV/AIDS, ऑन्कोलॉजी, कार्डियोवस्कुलर, न्यूरोलॉजी, हेपेटाइटिस, नेफ्रोलॉजी आदि के लिए उत्पाद बनाती है।

विभाग ने बताया कि फर्जी और गैर-मौजूद संस्थाओं से की गई खरीद में विसंगतियों और व्यय के कुछ शीर्षों की कृत्रिम मुद्रास्फीति से संबंधित मुद्दों का पता चला था। इसके अलावा, भूमि की खरीद के लिए नगद भुगतान के सबूत भी पाए गए है। कई अन्य कानूनी मुद्दों का पता चला है।

हिसाब में करोडो की हेराफेरी 

तलाशी के दौरान इनकम टैक्स विभाग ने पाया कि कंपनी ने फर्जी बही-खातों में रिकॉर्ड रखा था, जबकि असली हिसाब-किताब डिजिटल मीडिया और पेन ड्राइव में होता था। ऐसी सभी सामग्री जब्त कर ली गई है। 

इनकम टैक्स विभाग ने फर्जी लेन-देन का पता लगाया है। कई ऐसी कंपनियों से खरीदी बताई गई, जो अस्तित्व में ही नहीं हैं। कच्चे माल की खरीदी में भी भारी विसंगतियां पाई गईं।