बिना मिट्टी 45 दिनों में घर पर मशरूम उगाकर 80 हज़ार-1 लाख तक कमा रहा है यह लड़का!

 | 
yash raj mashroom kheti

कहाबत है, अगर इंसान ठान ले तो और मेहनत करने लग जाए तो समय बदलते देर नहीं लगती। और ऐसा ही कुछ कर दिखाया है, कोटा के 21 वर्षीय यशराज ने। जिन्होंने ना केवल बिना मिट्टी के ऑयस्टर मशरूम उगाया, बल्कि उससे आज बह हजारो-लाखो में कमाई भी कर रहे है। तो आइये जानते है यशराज ने बिना मिट्टी के कैसे उगाया मशरूम?

बिना मिट्टी 45 दिनों में ऑयस्टर मशरूम उगाया!

राजस्थान के कोटा में 21 वर्षीय यशराज साहू ने अपने साथी राहुल मीणा की सहायता से बिना मिट्टी और बड़े खर्चे के हैंगिंग बैग के जरिये ही ऑयस्टर मशरूम उगाकर नया कारनामा कर दिखाया है। आपको बता दे, उन्होंने यह कारनामा किया मात्र 45-60 दिनों के अंदर। और इसके लिए उन्हें ज्यादा पैसे भी नहीं खर्च करने पड़े। 

yash raj mashroom kheti
Image Source: The Better India

the better india की एक रिपोर्ट अनुसार, 21 वर्षीय यशराज साहू अब वो खुद की कंपनी डालकर मार्केट प्राइस से अधिक मूल्य पर लोगों से मशरूम उनको बेचने का ऑफर भी दे रहे ताकि वो ज्यादा से ज्यादा लोगों को मशरूम की खेती के व्यवसाय से जोड़ सके। 

अपनी मेहनत और लगन से कर दिखाया कमाल!

रिपोर्ट के मुताबिक, यशराज साहू ने मात्र 625 वर्ग फ़ीट के खाली पड़े प्लॉट में मशरूम की खेती के लिए बांस, ग्रीन नेट, काली पॉलीथिन आदि से स्ट्रक्चर तैयार करने तक का सारा काम खुद ही किया। इसके लिए उन्हें जरूरत पड़ी, भूसा, बांस, ग्रीन नेट, काली पॉलीथिन, मशरूम बीज और रस्सी की। इसके बाद बह जुट गए 500 बैग्स तैयार करने में। जिससे मशरूम की खेती की जा सके। 

yash raj mashroom kheti
Image Source: newsroompost

सबसे पहले उन्होंने भूसे को सड़ाया और उसे उर्वरक बनाया, फिर बांस की बल्लियों से 625 वर्ग फ़ीट के खाली पड़े प्लॉट में स्ट्रक्चर तैयार किया। इसके बाद रस्सियों की मदद से भूसे और बीज से भरी थालियों को लटका दिया। समय बीता और 45-60 दिनों के बीच, मशरूम के किल्ले फुट पड़े। 

45-60 दिन मेहनत में 80 हजार-1 लाख तक कमाई!

शराज साहू ने मात्र 500 बैग्स से 1000 किलो से ज्यादा मशरूम उगाया। जिससे उन्हें 80,000 रुपये से ज्यादा की कमाई हुई। आपको बता दे, यश, फ्रेश ऑयस्टर मशरूम को 100-150 रुपये किलो तक बेचते हैं, जबकि उसी मशरूम का सूखा पाउडर बनाकर 1500 से 2000 रुपये प्रति किलो में बेच देते हैं। इस तरह यश 45-60 दिन की मशरूम खेती से ही, 80,000 से 1 लाख रुपये तक कमा रहे हैं।

किन चीज़ों की होती है ज़रूरत?

यस के मुताबिक, “1000 किलो ऑयस्टर मशरूम उगाने के लिए कम से कम 500 बैग्स तैयार करने पड़ते है। जिसके लिए 600 किलो भूसा,100 किलो बीज, 200 रुपये की काली पॉलीथिन और 800 रुपये की रस्सी की जरुरत होती है। 

yash raj mashroom kheti
Image Source: The Better India

इसके बाद बांस का स्ट्रक्चर बनाकर उसे ग्रीन नेट से ढक दिया जाता है, जिससे बैग्स पर 18 दिनों तक सूरज की रोशनी ना पड़े। अगले 18 दिन के बाद बैग्स पर हल्के पानी का छिड़काव कर सकते हैं। जिससे 45-60 दिन में क्रॉप तैयार हो जाती है। 

स्कूली समय से ही 'मशरूम खेती' का मन बना लिया!

गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले यशराज का लक्ष्य, स्कूल समय से ही तय था। कक्षा 11 वीं में एग्रीकल्चर विषय चुनकर स्कूलिंग पूरी की तत्पश्चात स्नातक की पढाई के लिए बीएससी एग्रीकल्चर में दाखिला ले लिया। अभी वह बीएससी एग्रीकल्चर अंतिम वर्ष के विद्यार्थी है। 

yash raj
Image Source: newsroompost

बीएससी की पढ़ाई के दौरान ही, उन्होंने ‘कृषि वन, देहरादून’ नाम के संस्थान से 1 महीने तक मशरूम की खेती की बारीकी सीखी। और फिर वर्ष 2018 में 50 बेग की खेती के रूप में प्रयोग करके देखा, उससे उनको 80 किलो मशरूम प्राप्त हुआ था। बस फिर क्या था यश ने अपने इस काम को जूनून बना लिया। और आज नतीजा सबके सामने है। 

yash raj mashroom kheti
Image Source: newsroompost

यस बताते है कि परिवार में कोई व्यापारी या किसान नहीं है, इसलिए शुरू में थोड़ी घबराहट थी। लेकिन अब डेढ़-दो महीनों की मेहनत से ही अच्छी कमाई देख घर वाले भी खुश हैं। अब बह इस मशरूम खेती को एक कुशल कृषक की तरह अपनाना चाहते है। जिससे उन्हें भविष्य में और अच्छा मुनाफा मिल सके।