हरियाणा की छोरी ने रचा इतिहास! महिला टॉपर NDA पास करने वाली बनी भारत की पहली बेटी!

 | 
shanan dhaka became indias first women nda topper

नेशनल डिफेंस अकेडमी (एनडीए) की परीक्षा में महिलाओं के पहले बैच में टाप करने वाली रोहतक की बेटी शनन ने झंडा गाड़ दिया। एनडीए बैच में दाखिले के लिए हुई परीक्षा में लड़कियों के बीच शनन ढाका ने पहली रैंक हासिल की है।  वहीं उन्हें ओवरऑल 10वीं रैंक प्राप्त की है। इसी के साथ सोशल मीडिया पर छा गई सनन के संघर्ष और सफलता की कहानी। तो आइये आप भी जान लीजिये हरियाणा की इस छोरी की कहानी। 

रोहतक की शनन NDA परीक्षा में महिला टॉपर!

हरियाणा के बेटी नेशनल डिफेंस अकेडमी (एनडीए) की परीक्षा में महिलाओं के पहले बैच में टाप करने वाली शनन ढाका देश की पहली लड़की बनी हैं। आपको बता दे, सरकार के NDA में लड़कियों को प्रवेश देने की घोषणा के बाद हुई परीक्षा में देशभर से शनन समेत कुल 51 लड़कियों का चयन हुआ है। जिसमे सनन ने प्रथम स्थान पाया है। वंही अब शनन की उपलब्धि के बाद परिवार में खुशी का माहौल है और लोग लगातार उन्हें बधाई दे रहे हैं।

shanan dhaka women nda topper
Image Source: Bhaskar

आपको बता दे, शनन को सेना में जाने के लिए अनुकूल माहौल उनके परिवार और मिलट्री स्कूल से ही मिला। शनन ढाका मूल रूप से रोहतक के सुंडाना गांव की बेटी है लेकिन परिवार अब चंडीगढ़ में रहता है। शनन ने पिता और बड़ी बहन को सेना में सेवा करते देखकर ही NDA में जाने का मन बनाया। इसके बाद 40 दिन में 10-12 घंटे तैयारी के बाद यह लिखित परीक्षा पास की।

सनन का परिवार है फौजी परिवार!

बता दे, सनन के दादा चंद्रभान आर्मी में सूबेदार के पद से सेवानिवृत हैं और पिता विजय कुमार ढाका आनरेरी नायब सूबेदार के पद से सेवानिवृत हैं। वंही सनान की बड़ी बहन जोनून ढाका मिलिट्री में नर्सिंग अफसर के पद पर तैनात हैं। उनकी ट्रेनिंग लगभग पूरी हो चुकी है। वंही छोटी बहन अशी अभी पांचवीं कक्षा में पढ़ रही है। शनन ढाका तीनों बहनों में मझली हैं। 

shanan dhaka women nda topper
Image Source: Jagran

पारिवारिक फौजी माहौल होने की बजह से शनन की पढ़ाई शुरू से ही आर्मी स्कूलों में हुई है। शनन ने पिछले वर्ष दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक कोर्स के लिए दाखिला लिया, जिसके तहत बह दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज से बीए की पढ़ाई भी कर रही हैं। 

रोजाना 10-12 घंटे की तैयारी से हासिल किया मुकाम 

शनन ने बताया कि वह यूपीएससी की तैयारी कर रही थी, मगर सरकार द्वारा  जैसे ही NDA में महिलाओं को प्रवेश की अनुमति मिली तो उन्होंने भी आवेदन कर दिया। जिसके बाद उन्हें एनडीए परीक्षा की तैयारी के लिए मात्र 40 दिन का समय मिला था। इसके लिए उन्होंने वेबसाइट से एनडीए परीक्षा के पुराने वर्षों के प्रश्न पत्र डाउनलोड कर हल करना शुरू कर दिया। और करीब 10 वर्षों के प्रश्न पत्रों को देखा। 

shanan dhaka women nda topper
Image Source: Bhaskar

सनन ने बताया कि प्रश्न पत्र हल करने के लिए परीक्षा में ढाई घंटे का समय मिलता है, लेकिन मैंने दो घंटे में ही हल करने का प्रयास किया। ताकि जब वह परीक्षा में बैठे तो किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो। इसके लिए उन्होंने रोजाना 10 से 12 घंटे तैयारी की। जिसके चलते देश भर में यह मुकाम हासिल किया है। 

देशभर में रच दिया इतिहास!

आपको बता दे, सनन की सफलता के पीछे उसकी मेहनत और पारिवारिक सपोर्ट ने बहुत सहयोग किया। जिसका नतीजा यह रहा कि एनडीए के पहले महिला बैच में टाप कर शनन ने देश में इतिहास रच दिया है। दैनिक जागरण के अनुसार सनन अब तीन साल से पुणे स्थित प्रशिक्षण संस्थान में ट्रेनिंग करेंगी और उसके बाद एक साल तक भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून में प्रशिक्षण लेंगी।