बुजुर्ग किसान ने बनाया अनोखा स्कूटर, जो सड़क पर नहीं पेड़ो पर चलता है... देखिये वीडियो!

 | 
tree scooter

आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है, बहुत से नए और अनोखे वाहनों के बारे में आप सुनते रहते होंगे, लेकिन इस खबर में हम आपको ऐसे वाहन के बारे में बता रहे हैं तो आपको आगे नहीं सीधा ऊपर लेकर जाता है। घबराइए नहीं, ऊपर से मतलब यहां पेड़ के ऊपर से है। जी हां हम बात कर रहे है "पेड़ पर चढ़ने वाला स्कूटर। 

ये सुनकर ही आपको लग रहा होगा कि कितनी अनोखी चीज है, तो हम आपको बता दें कि ये कोई अजूबा नहीं, बल्कि हकीकत है और इसे बनाया है देश के एक किसान ने। भट्ट ने नारियल और सुपारी के पेड़ों पर आसानी से चढ़ने के लिए एक स्वदेशी रूप से विकसित वर्टिकल ट्री स्कूटर को बनाया है। तो आइये जानते है उनके इस स्कूटर के बारे में थोड़ा विस्तार से। 

कर्नाटक के गणपति भट्ट का आविष्कार!

कर्नाटक मंगलुरू के रहने वाले 60 साल के गणपति भट्ट सुपारी की खेती करते हैं। उन्हें अपनी फसल को पाने के लिए नियमित तौर पर 60 से 70 फुट ऊंचे पेड़ों पर चढ़ना पड़ता है। ये काफी मेहनत वाला और खतरनाक काम है, खासतौर पर बारिश के मौसम में जब पेड़ गीले होते हैं। इस समय बहुत ऊंचाई से फिलकर गिरने पर जान जाने का खतरा भी होता है। 

Tree Scooter
Image Source: AAJ Tak

इसी से निजात पाने के लिए गणपति ने एक स्कूटर बनाया है जिसपर बैठकर आप सरपट पेड़ पर चढ़ सकते हैं, और उनकी घंटों की मेहनत से होने वाला काम कुछ ही मिनटों में पूरा हो जाता है। 

ऐसा है पेड़ पर चढ़ने वाला ‘Tree Scooter'

सांइस ग्रेजुएट भट्ट को इस ट्री स्कूटर (tree scooter)  को बनाने में लगभग 2 साल लग गए। उन्होंने इस अनोखे स्कूटर को घर पर ही तैयार किया है।  इस स्कूटर में एक छोटी मोटर, एक सीट और दो पहिए हैं। इसके हैंडल से एक सीट बेल्ट जुड़ी है, स्कूटर पर लगा हैंडल ब्रेक और क्लच लीवर के साथ आता है और ट्री स्कूटर पर बैठकर जब ऐक्सेलरेटर को घुमाते हैं तो टायर घूमते हैं और पेड़ पर दोनों तरफ से पकड़ बनाकर पेड़ पर आसानी से चढ़ा जा सकता है। 


उनका कहना है कि एक किसान बैकग्राउंड में पैदा होने के कारण पका हुआ नारियल या सुपारी को पक्षियों द्वारा खराब करना और नीचे गिरते देखना बहुत दर्दनाक था। आज के दौर में बच्चे खेती करना पसंद नहीं करती है और वह बड़े शहरों की तरह चले जाते हैं। इसलिए इस सेक्टर में climbers की कमी को देखते हुए मैंने इस मैकेनिकल व्हीकल को बनाने का सोच लिया था। 

30 सेकेंड में चढ़ा देता है पेड़ पर!

tree scooter
Image Source: Reuters

60 वर्षीय गणपति ने बताया कि स्कूटर का वजन लगभग 28 किलोग्राम रखा है, जिसमें हाइड्रोलिक ड्रम ब्रेक, एक हैंडगियर, डबल चेन और एक सेफ्टी बेल्ट है। इस स्कूटर पर 80 किलो तक का इंसान आसानी से बैठ सकता है और 30 सेकेंड के भीतर यह स्कूटर उसे पेड़ पर चढ़ा देगी। अगर आप इस ट्री स्कूटर में एक लीटर पेट्रोल भरवाते हैं तो यह आपको 90 पेड़ों पर आराम से चढ़ा सकती है। 

क्या है इस अनोखे स्कूटर की कीमत?

इस स्कूटर को डेवलप करने का काम भट्ट ने 2014 में शुरू किया, और 4 लाख रिसर्च और 40 लाख रुपये खर्च करने के बाद ट्री स्कूटर को तैयार किया गया है। बह अब तक ऐसे 300 स्कूटर की बिक्री कर चुके हैं। अभी इस एक स्कूटर की कीमत करीब 62,000 रुपये है। 

Tree Scooter
Image Source: Zee News

भट्ट ने कहा कि उन्होंने लगभग 2 हजार पेड़ों पर पहले ट्री स्कूटर की टेस्टिंग की थी। टेस्टिंग के दौरान उन्हें पता चला कि यह स्कूटर  mushy और  moisture-based surfaces पर काम नहीं करता है। इसलिए स्कूटर खरीदने वालों को वह पहले से ही वॉर्निंग दे देते हैं। इसके अलावा बारिश के समय में भी ये स्कूटर बखूबी काम करता है जो सुपारी और संभवतः नारियल की खेती करने वाले किसानों को भी बहुत सहूलियत देता है।