'मिस यू पापा..', पिता को इंसाफ दिलाने के लिए बेटे की भाबुक चिट्ठी सबको रुला गई!

 | 
zomato delivery boy salil story

कोरोना से पिता, नौकरी और फिर एक पुलिसवाले की कार से जिंदगी खोने वाली जोमेटो के डिलीवरी बॉय 'सलिल' आज इस दुनिया में नहीं है। मगर अपने पीछे बह जिस परिवार को छोड़ गए, उन्हें इसका दर्द जिंदगी भर रहेगा। उनकी मौत के बाद अब उनके परिवार में कोई कमाने वाला नहीं है। आइये जानते है सलिल की जिंदगी का पूरा किस्सा। 

कोरोना ने छीन लिया सबकुछ!

zomatto delivery boy salil story
Image Source: Social media

38 साल के सलिल त्रिपाठी हले एक रेस्टोरेंट मैनेजर के पद पर थे, लेकिन कोरोना वायरस के समय नौकरी चली गई थी, तब से वह अपने परिवार का पेट भरने के लिए फूड डिलीवरी का काम कर रहे थे। इससे पहले वह अपने पिता को कोरोना के कारण खो चुके थे। किसे पता था कि ये बुरा वक्त उनकी जान तक ले लेगा, बीते शनिवार जब वह फूड डिलवरी के लिए निकले तो देर रात नशे में धुत तेज रफ्तार कार चला रहे दिल्ली पुलिसकर्मी ने सलिल को जोर से टक्कर मार दी थी। जिसमें उनकी मौत हो गई।

बुरे वक्त से गुजर रहे थे सलिल!

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, सलिल के परिवार ने बताया कि वो दिन में करीब 7 से 8 घंटे काम करते थे और काम के हिसाब से महीने का करीब 8 से 10 हजार रुपये कमा रहे थे। कोविड से पहले, रेस्टोरेंट में सलिल हर महीने 40 से 50 हजार रुपये तक कमा रहे थे। 

zomato delivery boy salil story
Image Source: Social media

होटल मैनेजनेंट में ग्रेजुएट, सलिल त्रिपाठी होटल इंडस्ट्री में करीब 15 सालों से काम कर रहे थे। वो एक रेस्टोरेंट में मैनेजर थे, लेकिन कोविड लॉकडाउन के दौरान उनकी नौकरी चली गई।

पिता को इंसाफ दिलाने के लिए बेटे ने लिखा खत!

अब अपने पिता को इंसाफ दिलाने के लिए 10 साल के बेटे दिव्यांश ने इमोशनल चिट्ठी लिखी है जो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है। वायरल हो रही चिट्ठी में दिव्यांश ने लिखा कि:-

'नशे में ब्रीजा कार चला रहे पुलिसवाले ने मेरे पिता को टक्कर मार दी थी। हमें इस मामले में इंसाफ चाहिए। प्लीज हमारी मदद करें और मामले मे ऐक्शन लें। मैं सलिल त्रिपाठी का बेटा हूं। वह होटल में मैनेजर थे लेकिन कोविड के कारण उन्हें जोमेटो में डिलिवरी बॉय का काम करना पड़ रहा था। उनके पिता जंग बहादुर की कोविड से जान चली गई थी। इसलिए प्लीज न्याय के लिए मेरे परिवार की मदद कीजिए।'

सलील की मौत के बाद उनके 9 साल के बेटे द्वारा लिखी यह भाबुक चिट्ठी अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। छोटी सी उम्र में जिसके सिर से पिता का साया उठ गया वो बच्चा आज दुनिया भर से अपने पिता के मौत के मामले में न्याय की गुहार लगा रहा है। 

सराबी पुलिसकर्मी की लापरबाही से उजड़ गया परिवार 


दरअसल सलिल त्रिपाठी की मौत के पीछे एक पुलिस वाले की लापरवाही को कारण बताया जा रहा है। वंही जिस पुलिसवाले पर सलिल को नशे की हालत में रौंदने का आरोप है, उसे तीन दिन में ही जमानत मिल गई। परिवार वाले आरोप लगा रहे हैं कि उसे बचाने की कोशिश हो रही है। सलिल के चाचा कहते हैं कि हम न्याय के लिए नेताओं और दिल्ली पुलिस के अफसरों को भी लिख रहे हैं। 

लोग मदद के लिए आए आगे!


सलिल की इस भावुक कहानी सामने आने के बाद लोग उनकी मदद के लिए आगे आ रहे हैं। मंगलवार रात तक सलिल की पत्नी सुचेता के खाते में 2 लाख तक की मदद आ चुकी थी। कई अन्य लोग भी थोड़ी-थोड़ी राशि देकर इस परिवार की मदद में जुटे हुए है। अगर आप भी इस परिवार की मदद करना चाहते है, तो ऊपर ट्वीट में दिए गए अकाउंट और मोबाइल नंबर पर संपर्क कर मदद कर सकते है। धन्यवाद।