नवरात्र के ठीक पहले रेलवे स्टेशन पर मिलीं दो बच्चियां, सोता हुआ लावारिस छोड़ गए माता-पिता!

 | 
Girls Found in kanpur railway station

शहर में बुधवार की रात जब लोग नवरात्र की तैयारियों में जुटे थे तो कन्या रूपी दो 'देवियां' सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर लावारिस मिलीं। प्लेटफार्म नंबर-3 पर दोनों बच्चियां घंटों स्टील की कुर्सियों पर लेटी रहीं। बताया जा रहा है कि उनकी मां कुछ देर में आने की बात कहकर बेंच पर सोता हुआ छोड़कर गयी थी लेकिन वापस नहीं लौटी। क्या है पूरा मामला? आइये आपको विस्तार से बताते है। 

बच्चियों को सोता हुआ लावारिस छोड़ गए माता-पिता

girls found in kanpur central railway station
Image Source: Dainik Jagran

दैनिक जागरण की एक खबर अनुसार, शहर में बुधवार की रात कन्या रूपी दो 'देवियां' सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर लावारिस मिलीं। दोनों बहनें हैं और एक जैसी पोशाक पहले बेंच पर सो रही थीं। काफी देर तक जब उनके पास कोई नहीं पहुंचा तो प्लेटफार्म पर मौजूद यात्रियों को शंका हुई। इस पर उन्होंने जीआरपी को सूचना दी।

जानकारी मिलते ही आरपीएफ और जीआरपी जवान मौके पर पहुंचे और बच्चियों के परिजनों की तलाश की। अभी तक बच्चियों के परिजनों की कोई जानकारी नहीं मिल सकी। जीआरपी के मुताबिक एक बच्ची की उम्र 3 साल और दूसरी की उम्र 2 साल है।

नहीं मिला कोई सबूत 

girls found in kanpur central railway station
Image Source: Amar Ujala

कहते हैं बच्चियां 'देवी' का रूप होती हैं, गुरुवार की भोर पहर नवरात्र के शुभारंभ से ठीक पहले दो देवियां रात में कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर लावारिस हालत में मिलीं तो अफरा तफरी मच गई। जानकारी मिलते ही आरपीएफ और जीआरपी जवान मौके पर पहुंचे और बच्चियों के परिजनों की तलाश की।

दोनों बहनें हैं और एक ही रंग के कपड़े पहन रखे हैं। रात का समय होने के चलते ज्यादा पूछताछ नहीं कि गयी। बच्चियों ने बस इतना बताया कि मम्मी कुछ देर में आने और उनसे वहीं बेंच पर लेटने को कह गयी हैं। जीआरपी के मुताबिक एक बच्ची की उम्र 3 साल और दूसरी की उम्र 2 साल है। दोनों के पास से ऐसा कोई समान नहीं मिला जिससे उनकी पहचान हो सके।

बच्चियों के हाथ में बिस्कुट के पैकेट थे। दोनों लाल रंग और नीले रंग के कपड़े पहने हुई थीं। फिलहाल जीआरपी ने दोनों बच्चियों को चाइल्डलाइन को सौंप दिया है।