स्कूल में जांच करने पहुंचे अफसर तो हजारो रूपये फीस लेने बाले गुरुजी...क्लास में खर्राटे लेते मिले!

 | 
gopalganj guruji

भारत का एक राज्य है बिहार, जंहा के बच्चे IAS, IPS बनकर देश और राज्य का नाम रौशन करते है। लेकिन जरा सोचिये अगर मास्टर साहब पढ़ाने की बजाय सोते रहे तो कैसे देश को IAS, IPS मिलेंगे? बिहार के गोपालगंज की यह तस्वीर शिक्षा व्यवस्था की पोल खोल रही है। जंहा हजारो रुपयों तन्खाव लेने बाले मास्टर जी सोते रहते है और अधिकारी जब निरीक्षण करने आते है तब भी आँख नहीं खोलते। क्या है पूरा माजरा? आइये जानते है। 

बच्चों को क्लास में छोड़ गहरी नींद में मिले गुरुजी!

भास्कर की रिपोर्ट अनुसार, बिहार के गोपालगंज जिले से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जो राज्य में बेहतर शिक्षा व्यवस्था के दावों की पोल खोलती नजर आती है। तस्वीर बैकुंठपुर प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय दिघवा की है। यहां शुक्रवार को क्लास रूम में छात्रों को पढ़ाने की बजाय गुरुजी (शिक्षक) खर्राटा ले रहे थे। 

gopalganj guruji
Image Source: Social Media

इसी दौरान शिक्षा विभाग के निर्देश पर बैकुंठपुर के बीडीओ अशोक कुमार जांच करने स्कूल पहुंच गये और उन्होंने गुरुजी को सोते देखा तो उनके भी होश उड़ गये। क्लास रूम में बच्चे खेल रहे थे, और गुरु जी खर्राटे भर रहे थे। 

पढ़ाते रहे BDO साहब फिर भी नहीं खुली टीचर की नींद!

स्कूल की जांच करने पहुंचे BDO साहब ने जब देखा गुरूजी सो रहे है तो उन्होंने बच्चों से कहा कि आपको आज मैं पढ़ाता हूं। और इसके बाद सभी बच्चे अपने सीट पर बैठ गये। इस दौरान बीडीओ ने करीब 40 मिनट तक छात्रों को पढ़ाया। उसके बाद भी गुरुजी की नींद नहीं खुली। पता नहीं गुरु जी ऐसा क्या सपना देख रहे थे, जो आँख खोलने ही नहीं दे रहा था। 

gopalganj guru
Image Source: Social Media

खैर मामला आगे बढ़ता देख, BDO साहब ने गुरु जी को जगाया। नींद खुली तो सामने बीडीओ साहब को देख गुरुजी सन्न रह गये। शिक्षक को समझ नहीं आ रहा था कि वह क्या जवाब दें। हालांकि, बीडीओ ने शिक्षक को समझाकर बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ नहीं करने हिदायत दी है। 

बता दे कि शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव द्वारा स्कूलों की जांच के लिए निर्देश दिया गया था। जिसके बाद आज जिला प्रशासन के अधिकारियों ने स्कूलों में जांच अभियान चलाया। निर्देश दिया गया था जिसके बाद आज जिला प्रशासन के अधिकारियों ने स्कूलों में जांच अभियान चलाया। वंही बीडीओ ने स्कूल की व्यवस्थाओं को और बेहतर बनाने की बात भी कही है।