बधाई हो! नमक-दाल से लेकर अब सेना के लिए एयरक्राफ्ट भी बनाएगा टाटा, आज भर ली नई उड़ान

 | 
tata group defence deal with indian air force

आप चाहे रेगिस्तान में हों या पहाड़ों पर, चाहे गांव में हों या शहरों में, टाटा ग्रुप की कोई न कोई चीज आपको अपने आसपास जरूर दिख ही जाएगी। फिर चाहे वह नमक, चाय हो या फिर ट्रक, बस या गहने...टाटा ग्रुप एक ऐसा समूह है, जिसका कोई ना कोई प्रोडक्ट घर के किसी न किसी कोने में मौजूद होता ही है। फिर चाहे बह गरीब हो अमीर...टाटा ग्रुप किसी के साथ भेदभाव नहीं करता 

इसकी पहुंच गरीब से लेकर अमीर तक है। और अब टाटा ग्रुप के कारोबार में एक और नगीना जड़ चुका है। प्राइवेट सेक्टर की सबसे बड़ी डिफेंस डील रतन टाटा (Ratan Tata) की झोली में आ गिरी है। जी हां Tata Group की कंपनी Tata Advanced System, बहुत जल्द देश की वायुसेना के लिए हवाई जहाज बनाते हुए आपको दिख जाएगी। 

एयरक्राफ्ट बनाने वाली पहली प्राइवेट कंपनी

tata defence deal with indian air force
Image Source: Live Mint

भारत सरकार ने 56 ‘सी-295’ परिवहन विमानों की खरीद के लिए स्पेन की ‘एयरबस डिफेंस एंड स्पेस’ (Airbus Defence & Space) के साथ करीब 21,000 करोड़ रुपये के सौदे पर हस्ताक्षर कर दिए हैं। भारतीय वायुसेना Airbus से 56 C295 एयरक्राफ्ट खरीदेगी। इसमें से 40 का निर्माण Tata Advanced System करेगी, जबकि 16 विमानों की डिलीवरी Airbus ‘फ्लाई-अवे’ कंडीशन में करेगी। 

बता दे, भारत में असलाह हो या एयर क्राफ्ट या फिर कोई भी रक्षा मंत्रालय से जुड़ा प्रोजेक्ट इसकी जिम्मेदारी HAL यानी हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड पर होती थी। HAL ही भारतीय सेना को युद्धक विमान, युद्ध के साजो सामान और हथियार बनाकर देती रही है। लेकिन  ये पहली बार होगा जब देश की कोई प्राइवेट कंपनी वायुसेना के लिए हवाई जहाज बनाएगी। 


और ये गौरान्वित पल हासिल हुआ है, टाटा ग्रुप को, जिसकी जानकारी खुद रतन टाटा (Ratan Tata) ने दी। यह एयरक्राफ्ट टाटा और एयरबस मिलकर भारत में बनाएगी। यह अपनी तरह की पहली परियोजना है जिसमें एक निजी कंपनी द्वारा भारत में सैन्य विमान का निर्माण किया जाएगा।

‘Make In India' का पहला ऐसा प्रोजेक्ट

tata group defence deal with indian air force
Image Source: Social media

देश में ये पहली बार होगा जब कोई प्राइवेट कंपनी एयरक्राफ्ट मैन्युफैक्चरिंग से लेकर असेंबलिंग, टेस्टिंग और क्वालिफाइंग, डिलीवरी और मेंटिनेंस का काम करेगी। इस तरह ये मोदी सरकार के महत्वाकांक्षी  ‘Make In India' प्रोग्राम में एयरक्राफ्ट मैन्चुफैक्चरिंग सेक्टर का पहला प्रोजेक्ट भी होगा। 

लोगो को मिलेगा बंपर रोजगार 

ratan tata
Image Source: Tata trust

देश में बेरोजगारी के क्या आलम है, आज ये किसी से छुपा नहीं है। वंही इस डील के हो जाने से, जो रोजगार विदेशो को चला जाता था बह अब भारतीयों के हाँथ आएगा। एक अनुमान के मुताबिक, इससे आने वाले वर्षों में देश में 6,000 से ज्यादा रोजगार पैदा होने की उम्मीद है। साथ ही इससे देश में एविएशन की अत्याधुनिक तकनीक आएगी।

टाटा की दुनियाभर में धमक 

tata group
Image Source: Tata trust

बता दे, देश दुनिया में टाटा से जुड़े कई सारे उत्पाद बनाये और बेचे जाते है। टाटा ग्रुप देश और दुनिया में 10 क्लस्टर में 30 कंपनियों के साथ परिचालन कर रहा है। इसका कारोबार 100 से ज्यादा देशों में फैला हुआ है। ग्रुप की प्रिंसिपल होल्डिंग कंपनी और टाटा कंपनियों की प्रमोटर, टाटा सन्स (Tata Sons) है। 

कंज्यूमर ड्यूरेबल्स से लेकर चाय और पैकेज्ड वाटर तक, टाटा कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स की बात करें तो टाटा टी, टाटा नमक, टाटा संपन्न ब्रांड इसी के अंब्रैला तले आते हैं।तनिष्क, टाइटन का ज्वैलरी ब्रांड है। स्टारबक्स के साथ मिलकर कंपनी टाटा स्टारबक्स नामक जॉइंट वेंचर चलाती है।

tata group
Image Source: Tata trust

आईटी सर्विसेज में टाटा समूह, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) की मदद से परिचालन करता है। टीसीएस की अगुवाई में ग्रुप की आईटी कंपनियां पूरी दुनिया में ऑपरेशनल हैं। वंही टाटा समूह की टाटा Elxsi डिजाइन व टेक्नोलॉजी सर्विसेज में दुनिया की दिग्गज प्रोवाइडर्स में शामिल है।

ऑटोमोटिव सेक्टर में टाटा मोटर्स (Tata Motors) का नाम कौन नहीं जानता है। टाटा मोटर्स पैसेंजर व्हीकल्स से लेकर कमर्शियल व्हीकल्स और डिफेंस व्हीकल्स तक बनाती है। वंही टाटा मोटर्स ने अब इलेक्ट्रिक व्हीकल्स में भी एंट्री कर ली है। इसके अलाबा स्टील सेक्टर में टाटा स्टील मौजूद है।