"जिंदगी के आखिरी साल स्वास्थ्य के नाम", रतन टाटा ने PM मोदी की मौजूदगी में क्‍यों कहा ऐसा? देखें वीडियो

 | 
ratan tata

PM मोदी आज असम दौरे पर हैं। इस दौरान प्रधानमंत्री ने असम के लिए 7 नए कैंसर अस्पतालों की आधारशिला रखी और 6 कैंसर अस्पतालों का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों इन स्‍टेट ऑफ द आर्ट कैंसर सेंटर्स के उद्घाटन से पहले दिग्‍गज इंडस्ट्रियलिस्‍ट रतन टाटा ने अपनी बात रखी। टाटा इस मौके पर बेहद भावुक नजर आए।

बेहद भावुक स्पीच देते हुए टाटा ने कहा कि मैं अपनी जिदंगी के आखिरी साल स्‍वास्‍थ्‍य को समर्पित करता हूं। इससे पहले टाटा ने हिंदी न बोल पाने के लिए माफी भी मांगी। उन्होंने कहा कि मै जो भी बोलूंगा, वह मेरे दिल से निकला हुआ।

जिंदगी के आखिरी साल स्‍वास्‍थ्‍य के नाम: रतन टाटा

रतन टाटा का ये वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है जिसमे बह कह रहे है कि 'मैं अपनी जिदंगी के आखिरी साल स्‍वास्‍थ्‍य को समर्पित करता हूं। असम को ऐसा राज्‍य बनाएं जो सबको पहचाने और जिसको सब पहचानें।' 


उन्होंने कहा कि असम के इतिहास में आज का दिन महत्वपूर्ण दिन है। कैंसर के इलाज के लिए उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सुविधा जो पहले राज्य में उपलब्ध नहीं थी, उसे यहां लाया जा रहा है। कैंसर अमीर आदमी की बीमारी नहीं है। अब असम को विश्व स्तरीय कैंसर उपचार प्रदान करने के लिए सक्षम राज्य के रूप में पहचाना जाएगा।


आपको बता दे, टाटा जब अपनी बात रख रहे थे, तब मंच पर पीएम मोदी के अलाव असम के सीएम हिमंता बिस्‍व सरमा, पूर्व सीएम सर्वानंद सोनोवाल भी मौजूद थे। 

अस्पताल खाली रहे इसी में मेरी खुश- PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम के 6 कैंसर अस्पतालों का उद्घाटन किया। इस दौरान पीएम मोदी बोले, कि असम ही नहीं नॉर्थ ईस्ट में कैंसर एक बहुत बड़ी समस्या रही है। इससे सबसे अधिक हमारे गरीब और मिडिल क्लास परिवार प्रभावित होते हैं। कैंसर के इलाज के लिए कुछ साल पहले तक यहां के पेशेंट्स को बड़े शहरों में जाना पड़ता था। इससे इन परिवारों पर भारी बोझ पड़ता था। 


प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार का फोकस स्वास्थ्य सेवाओं के डिजिटाइजेशन का है। सरकार की कोशिश है कि इलाज के लिए लंबी-लंबी लाइनों से मुक्ति हो, इलाज के नाम पर होने वाले दिक्कतों से मुक्ति मिले। अस्पताल आपकी सेवा के लिए हैं, लेकिन मुझे खुशी तब होगी जब ये खाली ही रहें। मैं असम के लोगों के अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूं। हमारी सरकार का फोकस योगा, फिटनेस और स्वच्छता पर है। 


आपको बता दे,  इन केंद्रों का विकास राज्य सरकार और टाटा ट्रस्ट के संयुक्त उद्यम असम कैंसर केयर फाउंडेशन (एसीसीएफ) द्वारा किया जा रहा है। नेटवर्क के तहत अन्य तीन अस्पताल इस साल के अंत में खोले जाएंगे। परियोजना की नींव जून 2018 में रखी गई थी। 


मोदी ने असम मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में स्थित केंद्र में सुविधाओं और उपकरणों का निरीक्षण किया। वह शाम को होने वाले एक अन्य कार्यक्रम में छह अन्य ऐसे केंद्रों का डिजिटल तरीके से उद्घाटन करेंगे।