इत्र कारोबारी के घर 150 नहीं 177 करोड़ मिले, देखिये सामने आये छापे के VIDEO!

 | 
piyush jain

कानपुर में इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर से 150 करोड़ नहीं, बल्कि 177 करोड़ रुपए बरामद हुए हैं। और इसी के साथ कानपुर वाले मकान में नोटों की गिनती पूरी हो चुकी है। यहां से 177 करोड़ रुपए एक कंटेनर में भरकर आरबीआई पहुंचा दिए गए हैं। बरामद रकम की गिनती के लिए 13 मशीनों को लगातार 36 घंटे तक काम करना पड़ा। एक सीनियर अफसर ने कहा कि उन्होंने अपनी नौकरी में इतना कैश कभी नहीं देखा।

आयकर विभाग को नोटों के बंडलों की भरी अलमारी भी मिलने की खबर है। इतना ही नहीं, उनके घर में एक तहखाने की खबरें भी आ रही हैं और मुमकिन है कि रिकवरी की ये रकम और बढ़ सकती है। 

देर रात तक नोटों की ढुलाई चलती रही


उत्तर प्रदेश में केवल एक इन्सान के यहां इतना कैश निकला है कि यह देश में लगभग 12355 लोगों की कमाई है। यह शख्स हैं इत्र कारोबारी पीयूष जैन, जिनके यहां इनकम टैक्स के छापे (Income Tax Raid on Piyush Jain) पड़े हैं। खबर है कि अब तक करीब 177 करोड़ रुपयों की बरामदगी हो चुकी है।

शुक्रवार देर रात 1 बजे तक नोटों को जैन के घर से RBI चेस्ट तक ढोने का काम चलता रहा। नकदी को 42 बड़े बक्सों में भरकर कंटेनर में पुलिस सुरक्षा में भेजा गया। छापे के जो फोटो सामने आए, उनमें दिख रहा है कि अलमारी में कार्टन में भरकर नोट रखे गए थे। 500 रुपए के नोटों की गडि्डयों के बंडल बनाकर पूरा कैश रखा गया था। इन बंडलों को ऐसे पैक कर रखा गया था कि इन्हें आराम से कहीं भी कोरियर किया जा सके।


जैन के घर से सोने के बेशकीमती कई जेवर भी मिले हैं। इन्हें बक्सों में सील कर ले जाया गया है। एक लॉकर के साथ कई डॉक्यूमेंट भी जब्त किए गए हैं। अभी CBIC और IT के अफसर पीयूष जैन के घर पर ही हैं। शनिवार को भी जांच जारी रहेगी।


कानपुर में छापे के बाद पहली खेप में 13 डिब्‍बों में पैसे रखे गए थे, वहीं दूसरी खेप में 17 डिब्‍बों में रखकर पूरी रकम ले जाकर रिजर्व बैंक में जमा कराई जा रही है। आईटी विभाग (Kanpur IT Raids) की रेड के दौरान कानपुर के जूही स्थित आनंदपुरी में पीयूष जैन (Piyush jain) के यहां से इतने पैसे मिले हैं कि बीते 24 घंटे से नोटों को गिनने का सिलसिला जारी है। रुपयों को गिनने के लिए गुरुवार को 6 मशीनें आई थीं, बाद में दो और मशीनें लाई गईं।

कैश की गिनती के लिए SBI कर्मचारी बुलाए गए

IT सूत्रों ने बताया कि रकम इतनी ज्यादा थी कि देर रात तक 4 मशीनों से 40 करोड़ रुपए गिन पाए। बाकी नोटों की गिनती दिन में हुई। 16 घंटे तक नोटों की गिनती चली।


पीयूष जैन की करीब 40 कंपनियां हैं। इनमें कई शैल कंपनियां भी शामिल हैं। इन कंपनियों के जरिए टैक्स चोरी की गई है। कन्नौज में इत्र बनता है और मुंबई में इनका शोरूम है। जहां से इत्र देश और विदेशों में सप्लाई होता है।

धारा 132 के तहत आती है रेड


इनकम टैक्स रेड आयकर कानून की धारा 132 के तहत आती है। इसके तहत अधिकारी किसी व्यक्ति के बिजनेस या घर कहीं पर भी छापा मार सकता है। रेड किसी भी वक्त हो सकती है और कितनी भी देर तक चल सकती है। इतना ही नहीं, अगर कुछ गड़बड़ पाई जाती है तो जब्ती भी की जा सकती है। 

पियूष के पैतृक घर पर भी छापा 


पीयूष जैन मूलरूप से कन्नौज के रहने वाले हैं। कानपुर में उनके घर में छापेमारी के बाद पीयूष के बेटे प्रत्यूष को लेकर CBIC और IT के अफसर शुक्रवार शाम को कन्नौज स्थित घर पहुंचे थे। यहां पर सिर्फ दो कमरों की तलाशी में टीम को 4 करोड़ रुपए मिले हैं। अभी भी घर के कई कमरे बंद हैं।

इस छापे को युपी चुनाव से जोड़ रहे है लोग 


पियूष जैन के घर पड़े इस आईटी छापे को आम जनता आगामी बिधानसभा से जोड़ कर देख रही है। वंही इस छापे के बाद बीजेपी और सपा के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर सुरु हो गया है। वंही पियूष जैन का संबंध बीजेपी अखिलेश से जोड़ रही है, तो वंही सपा पार्टी पियूष जैन को बीजेपी का आदमी बता रही है। खैर पियूष किससे सम्बंधित है यह जाँच का विषय है। फ़िलहाल इस बारे में पुख्ता तौर पर अभी तक कुछ नहीं कहा जा सकता है।