Video: गर्मी में तपते बॉर्डर पर जवानो ने रेत में सेंके पापड़, जिसका वीडियो वायरल हो रहा है!

 | 
sena jawan

देशभर में इन दिनों भीषण गर्मी में लोग तप रहे है। इसकी वजह से गलियां सुनसान हो गई है जिससे लाकडाउन जैसे हालात बन गए हैं। वंही भारत-पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान के जैसलमेर और बाड़मेर जिलों में दोपहर में तापमान 48 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है, जिससे दिन में ही लोगों को गर्म लू के थपेड़ों ने बेहाल कर दिया। वहीं गर्मी के तीखे तेवरों के बीच प्रचंड गर्मी की एक ऐसी तस्वीर समाने आई है, जो इससे पहले कभी नहीं देखी होगी। 

पहले जानिए-मामला क्या है?

भीषण गर्मी और लू के बीच सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान मुस्तैदी से सीमा की चौकसी कर रहे हैं। इस दौरान बॉर्डर पर जवानों ने गर्मी का प्रचंडता दिखाने के लिए अनूठा प्रयोग किया है जिसका उन्होंने वीडियो भी बनाया। जिसके बारे में कहा जा रहा है कि बीएसफ के जवानों में इस तपती गर्मी में भी अपनी भूख मिटाने का आसान तरीका निकाल लिया है। 

Sena Jawan
Image Source: video Screen SHot

दरअसल, वायरल वीडियो में आप देख सकते है कि दो जवान हाथ में 2-2 कच्चे पापड़ लिए नजर आते हैं। जवानों ने इन पापड़ को रेत में दबाया। 10 मिनट बाद मिट्‌टी हटाकर देखा तो पापड़ सिके हुए थे। जवानों ने एक पापड़ को तोड़कर भी दिखाया। जिसे देखकर साफ पता चल रहा था कि पापड़ बिल्कुल करारे सिके है। 

जवानों के हौसले गर्मी से भी ज्यादा सख्त!


इस बारे में बीएसएफ़ डीआईजी पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ ने जानकारी देते हुए कहा- इस तपती गर्मी में हमारे देश के जवानो के हौसले  प्रचंड़ गर्मी से कई ज़्यादा, कैसी भी परिस्थिति हो, हमारे देश का जवान देश की सीमा सुरक्षा में डटा रहेंगा क्योंकि  प्रत्येक जवान के लिए उसकी मातृभूमि की रक्षा का कर्तव्य पहले है। 

गर्मी में सेना की क्या तैयारी?

आपको बता दे, पश्चिमी राजस्थान के सभी जिले गर्मी और लू की चपेट में आ गए हैं। बीकानेर में तापमान 47 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंच गया है। ऐसे में बीएसएफ ने जवानों को गर्मी से बचाने के लिए मचान पर कूलर लगा दिए हैं। इससे छह घंटे की सख्त ड्यूटी करने वाले जवान को कुछ देर के लिए आराम मिलता है। 

Sena Jawan
Image Source: Bhaskar

बीएसएफ के जवानों को गर्मी से बचाने के लिए वॉच टावर्स पर पहली बार कूलर लगाए जा रहे हैं। बीकानेर बॉर्डर की लंबाई 157 किलोमीटर के करीब है। ऐसे में यहां 150 कूलर लगाए जाएंगे। अब तक 50 कूलर लगा दिए गए हैं। इन कूलरों में पानी भरने के लिए एक टैंकर भी रखा गया है।


जवानों को इससे काफी हद तक राहत मिली है। इन कूलर्स को चलाने के लिए सोलर सिस्टम लगाया गया है। डीआईजी पुष्पेंद्र सिंह ने बताया कि बॉर्डर पर गर्म हवाओं के कारण जवानों के बीमार पड़ने का खतरा रहता है। इस दौरान सैनिको हर दो घंटे में छाछ और नींबू पानी पिलाया जा रहा है।