चीखते रहे, चिल्लाते रहे और बर्फीले तूफान में सदा के लिए जम गई 10 मासूमों समेत 22 सिसकियां

 | 
murree

पाकिस्तान के पंजाब के पहाड़ी इलाके मुर्री में जबरदस्त बर्फबारी के कारण हजारो  टूरिस्ट वाहन बीच रास्तों में ही फंस गए हैं, जिनमें हजारों लोग सवार हैं। इसी बीच खबर आई है कि इस भीषण जाम में फंसने से लगभग नौ बच्चों समेत 21 लोगों की मौत हो गई। जिसके बाद शनिवार को इसे आपदा प्रभावित क्षेत्र घोषित कर दिया गया। 

ज़ी न्यूज़ की एक खबर अनुसार, पाकिस्‍तान के बेहद लोकप्रिय पर्यटक स्‍थल मुर्री में घूमने पहुंचे हजारों पर्यटकों के लिए शनिवार का दिन काल बनकर आया और लगभग नौ मासूमों समेत 22 लोगों की मौत हो गई। इनमें ज्‍यादातर तो ऐसे थे जो कार के अंदर ऑक्‍सीजन खत्‍म हो जाने से मर गए, और उनका शव जम गया। 

murri

मरने वालों में से कम से कम 10 की मौत कार में बैठे-बैठे ही जम जाने के कारण हो गई है। कार में बैठे-बैठे मरने वालों के दर्दनाक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो गए हैं। साथ ही वहां बुरी हालत से जूझ रहे टूरिस्ट्स के वीडियो और फोटो भी खूब शेयर किए जा रहे हैं।


रावलपिंडी जिले में स्थित मुर्री तक जाने वाला हर रास्ता उस वक्त अवरुद्ध हो गया जब हजारों की संख्या में वाहन शहर में आ गये और पर्यटक सड़कों पर फंस गए। मुर्री में हालात इतने खराब हो गए हैं कि 10 हजार गाड़‍ियों में वहां पहुंचे पर्यटकों को खाने, ऑक्‍सीजन और पानी की भारी किल्‍लत का सामना करना पड़ रहा है।

murri
Image Source: Dainik bhaskar

रिपोर्ट में कहा गया है कि ये सभी टूरिस्ट्स बर्फबारी का आनंद लेने के लिए पहुंचे थे, लेकिन शनिवार को वापस लौटते समय सड़कों पर ही फंस गए। पाकिस्तान के गृहमंत्री शेख राशिद के मुताबिक, ब्रिटिश कॉलोनियल शहर मुर्री में यह स्थिति पिछले कुछ दिन के दौरान 1 लाख से ज्यादा टूरिस्ट वाहन पहुंच जाने के कारण बनी है।


अखबार की खबर के अनुसार लगभग एक हजार कार पर्यटन स्थल पर फंस गये। पंजाब के मुख्यमंत्री ने बचाव कार्य में तेजी लाने और फंसे हुए पर्यटकों को मदद पहुंचाने के निर्देश जारी किये। 

प्रधानमंत्री इमरान ने जताया दुःख 

प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बयान कहा कि मुर्री जाने वाले रास्ते पर पर्यटकों की मौत की घटना से वह स्तब्ध और दुखी हैं। खान ने ट्वीट किया, ‘जबरदस्त बर्फबारी और मौसम की स्थिति जाने बिना भारी संख्या में पर्यटकों के आने से जिला प्रशासन तैयारी नहीं कर सका। जांच के आदेश दिए गए हैं और इस तरह की त्रासदी दोबारा न हो, इसके लिए कड़े नियम बनाये जा रहे हैं।'