भारत का सबसे अनोखा रेलवे स्टेशन! जहां 1 स्टेट में है टिकट काउंटर तो दूसरे में बाथरूम

 | 
navapura railway station

अतुल्नीय भारत तो आपने खूब सुना होगा, आज अतुल्नीय रेलवे स्टेशन भी देख लीजिये। बैसे तो भारतीय रेलवे की कई ऐसी रोचक बातें हैं, जिनके बारे में कम ही लोगों को जानकारी है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि देश में एक ऐसा रेलवे स्टेशन भी है, जो दो राज्यों में स्थित है। जी हां स्टेशन एक लेकिन सीमाएं दो राज्यों की लगती है। तो आइये देते है आपको पूरी जानकारी। 

2 राज्यों में बंटा है भारत का अनोखा रेलवे स्टेशन!

जिस रेलवे स्टेशन की हम बात कर रहे हैं वो 1 नहीं 2 राज्यों (Indian Railway Station Divided in 2 states) का हिस्सा है। दरअसल, पश्चिम रेलवे की सूरत-भुसावल लाइन पर नवापुर रेलवे स्टेशन है. जो दो राज्यों में बंटा है। नवापुर रेलवे स्टेशन का आधा हिस्सा महाराष्ट्र में और आधा गुजरात में पड़ता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि महाराष्ट्र और गुजरात बॉर्डर इस स्टेशन को बीचोंबीच से काटता है। 

तत्कालीन रेल मंत्री पीयूष गोयल ने खुद इस रेलवे स्टेशन के बारे में ट्वीट करके भी जानकारी दी है। रेल मंत्री ने कहा:- 

"क्या आप जानते हैं कि देश में एक रेलवे स्टेशन ऐसा भी है जो दो राज्यों में स्थित है? सूरत-भुसावल लाइन पर नवापुर एक ऐसा स्टेशन है, जहां स्टेशन के बीचों-बीच दो राज्यों की सीमाएं लगती हैं। इसलिए इस स्टेशन का आधा भाग गुजरात में, तो शेष आधा महाराष्ट्र में है।"


लकड़ी की एक बेंच को दो राज्यों में बांट देता है बॉर्डर!

सबसे मजेदार बात ये है कि प्लेटफॉर्म पर जिस जगह से बॉर्डर गुजरता है, वहीं एक लकड़ी की बेंच मौजूद है। दोनों राज्यों की सीमा इस बेंच को भी बांटते हुए गुजरती है। जिसका अर्थ है कि आधी बेंच महाराष्ट्र में है जबकि आधी बेंच गुजरात के हिस्से में। इसके अलावा स्टेशन और प्लेटफॉर्म पर खड़े होने वाली अन्य चीजों का भी राज्यों के हिसाब से बंटवारा हो चुका है। 

navapura railway station
Image Source: Amar Ujala

बता दें कि जब नवापुर स्टेशन बना था तब महाराष्ट्र और गुजरात का बंटवारा नहीं हुआ था। उस वक्त नवापुर स्टेशन संयुक्त मुंबई प्रांत के अंतर्गत आता था। जब मुंबई प्रांत का बंटवारा हुआ था तो नवापुर स्टेशन दो राज्यों महाराष्ट्र और गुजरात में बंट गया। तब से इस स्टेशन की अपनी एक अलग ही पहचान है। 

4 भाषाओं में होती है अनाउंसमेंट!

इस स्टेशन की एक और ख़ास बात है कि यंहा एक दो नहीं बल्कि पुरे चार अलग-अलग भाषाओं में कोई भी सूचना रेल यात्रियों को दी जाती है। आपको बता दें कि ये रेलवे स्टेशन 800 मीटर की लंबाई में है जिसमें से 500 मीटर गुजरात में है और बाकी 300 मीटर महाराष्ट्र में है। यही कारण है कि इस रेलवे स्टेशन पर ट्रेन की अनाउंसमेंट अंग्रेजी, हिन्दी, मराठी और गुजराती में होती है। 

Navapur Railway Station
Image Source: Amar Ujala

आपको जानकर हैरानी होगी कि इस स्टेशन पर राज्यों के प्रतिबंध से जुड़े नियम भी लागू होते हैं। यानी गुजरात वाली साइड पर शराब पीने पर प्रतिबंध है जबकि महाराष्ट्र वाली साइड पर पान-मसाला और गुटका बैन है। टिकट काउंटर और रेलवे पुलिस का स्टेशन महाराष्ट्र के नंदुरबर जिले में है जबकि स्टेशन मास्टर का ऑफिस, वेटिंग रूम और वॉशरूम गुजरात के तापी जिले में आता है।