नरेंद्र गिरि की मौत के बाद का वीडियो आया सामने, जिससे और उलझ गई मौत की गुत्थी!

 | 
narendra giri

महंत नरेंद्र गिरि (Narendra Giri) की मौत को लेकर लगातार नए खुलासे हो रहे हैं। अब उस कमरे का एक वीडियो सामने आया है, जहां नरेंद्र गिरि का शव मिला था। सबसे खास बात यह है कि इसमें फर्श पर महंत का शव पड़ा दिखाई दे रहा है और कमरे का पंखा चल रहा है। वीडियो में आईजी केपी सिंह इस बाबत मठ में रहने वाले शिष्यों से पूछताछ करते भी दिख रहे हैं। जिसको लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। 

महंत नरेंद्र गिरि का नया वीडियो सामने आया

Narendr Giri

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ है जो घटना के ठीक बाद पुलिस के पहुंचने के दौरान का है। 1.45 मिनट का यह वीडियो उस कमरे का है, जिसमें महंत का शव फंदे पर लटका मिला। इसमें पुलिस अधिकारी मठ के शिष्यों से पूछताछ करते दिख रहे हैं। जब कमरे में पुलिस पहुंचती है, तब महंत नरेंद्र गिरि का शव ज़मीन पर होता है। 

वीडियो में कमरे का पंखा चलता हुआ दिख रहा है। पंखे की रॉड जिसमें फंसी होती है, इसी में पीले रंग की नॉयलॉन की उस रस्सी का एक हिस्सा भी फंसा नजर आता है, जिससे बनाए गए फंदे पर महंत का शव लटका मिला। कहा जा रहा है कि इसी रस्सी के जरिए महंत ने सुसाइड किया था। वीडियो में फर्श पर महंत के गले में रस्सी का एक टुकड़ा भी फंसा दिखाई दे रहा है। 

वीडियो शुरू होते ही महंत नरेंद्र गिरि का शव फर्श पर पड़ा नजर आता है और बगल में ही महंत के कथित सुसाइड नोट में उत्तराधिकारी बताए गए बलबीर गिरि खड़े नजर आते हैं। वीडियो में आईजी केपी सिंह भी दिखाई पड़ते हैं, जो महंत के शिष्यों से पूछताछ कर रहे थे। 

Narendra Giri
Image Source: Zee News

वीडियो के अगले फ्रेम में एक फोटोग्राफर और एक दरोगा नजर आते हैं। इसके बाद कैमरा कमरे में पड़े बिस्तर और वहां सजाई गईं तस्वीरों व सर्टिफिकेट की ओर घूमता है। वीडियो में रस्सी के तीन हिस्से दिखाई पड़ते हैं, जिसको लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। रस्सी का एक हिस्सा पंखे से फंसा है, दूसरा महंत नरेंद्र गिरि के गले में था और तीसरा हिस्सा शीशे की मेज पर ही रखा था। 

कुछ ही देर बाद आईजी केपी सिंह कमरे के दरवाजे पर खड़े महंत के शिष्यों से यह पूछताछ करते नजर आते हैं कि पंखा चल रहा था या इसे किसी ने चलाया। उन्होंने चलते हुए पंखे को लेकर भी सवाल किया। इस पर वहां खड़े सुमित ने बताया कि ये उसने ही चलाया था। केपी सिंह ने कहा कि शव को तुम्हें नीचे नहीं उतारना चाहिए था। 

सर्वेश द्विवेदी ही वो शख्स हैं, जिन्होंने महंत नरेंद्र गिरि का शव पंखे से उतारा था।  उन्होंने कहा कि शव को उतारने के लिए उन्होंने ही अन्यों की मदद से रस्सी काटी थी, तब इतना ध्यान नहीं दिया कि रस्सी तीन हिस्सों में कटी या फिर दो हिस्सों में। 

इन सवालों का जवाब जरूरी

Narendra Giri
Image Source: Zee News

महंत नरेंद्र गिरि ने जिस पीले रंग की रस्सी से फांसी लगाई, उसको किसने काटा था, और उस रस्सी को 3 टुकड़ों में काटने की जरूरत क्यों पड़ी? महंत नरेंद्र गिरि के गले में बंधी रस्सी किसने खोली? अगर माना जाए कि रस्सी काटकर शव को फंदे से नीचे उतारा गया तो भी यह सवाल अनुत्तरित ही रहता है। क्योंकि इसमें भी रस्सी के दो ही भाग होंगे। जबकि कमरे में रस्सी तीन हिस्सों में बंटी मिली।

महंत नरेंद्र गिरि का शरीर भारी था. बढ़ती उम्र और गठिया रोग की भी शिकायत थी। ऐसे में वो पंखे के हुक तक पहुंचे कैसे? पहली बार महंत को फांसी के फंदे से लटका देखने वाले ने दावा किया कि वो दरवाजा तोड़कर अंदर गए.. दरवाजा कितने लोगों ने तोड़ा और पुलिस को उससे पहले सूचना क्यों नहीं दी गई? महंत के साथ सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी उस वक्त कहां थे जब दरवाजा तोड़ा गया?

आनंद गिरि गिरफ्तार, पुलिस की जांच जारी

anand giri
Image Source: India Today

आपको बता दें कि सोमवार को महंत नरेंद्र गिरि की मौत हुई थी। प्रयागराज पुलिस ने आनंद गिरि को गिरफ्तार किया है, जबकि अन्यों को हिरासत में लिया है। इनके अलावा भी पुलिस अलग-अलग लोगों से पूछताछ कर रही है।