कन्नौज से लेकर मुंबई तक 18 कंपनियों से जुड़े हैं पंपी जैन के तार! देखिये ये रिपोर्ट

 | 
pushpraj jain

समाजवादी पार्टी के MLC और इत्र कारोबारी पुष्पराज जैन उर्फ पंपी के ठिकानों पर आयकर विभाग की टीम सुबह से छापेमारी कर रही है। पुष्पराज जैन समाजवादी पार्टी के एमएलसी हैं और इन्होंने समाजवादी इत्र (Samajwadi Perfume) बनाया था। वंही पीयूष जैन की तरह ही पुष्पराज जैन भी कन्नौज के बड़े इत्र कारोबारी हैं। 

यह छापेमारी कन्नौज, कानपुर, हाथरस, नोएडा के अलावा मुंबई और गुजरात में भी की जा रही है। रिपोर्ट के मुताबिक पंपी जैन की एक कोठी और फैक्ट्री हाथरस जिले के हसायन इलाके में है। शुक्रवार तड़के दो गाड़ियों में आयकर विभाग के अधिकारी पंपी जैन के इन ठिकानों पर पहुंचे। इसके अलावा कानपुर के प्रगट अरोमा कॉम्प्लैक्स में इत्र कारोबारी पंपी जैन के दफ्तर पर आयकर विभाग के अफसर मौजूद हैं। 

सपा एमएलसी पुष्पराज जैन की कम्पनी प्रगति एरोमा का रिजनल दफ्तर मुंबई में है, वहां पर भी छापेमारी चल रही है। बताया जा रहा है कि मुम्बई दफ्तर से दुबई, अबू धाबी समेत कई देशों में इत्र का इंपोर्ट किया जाता है। 

पूरा परिवार इत्र के कारोबार में!

सपा एमएलसी पुष्पराज जैन के पिता सवाई लाल जैन, उनके चार पुत्र हुए। यानी सपा एमएलसी पुष्पराज जैन के चार भाई हैं, पुष्पराज जैन, अतुल जैन, प्रभात जैन और पंकज जैन। पुष्पराज जैन कन्नौज और कानपुर में परफ्यूम के बिजनेस को देखते हैं, जबकि प्रभात जैन और पंकज जैन दोनों मुंबई में रहते हैं और मुंबई दफ्तर से व्यवसाय देखते हैं। 

कन्नौज के इत्र कारोबारी पुष्पराज जैन उर्फ पंपी की गिनती अखिलेश यादव के करीबियों में की जाती है। अखिलेश यादव जब कन्नौज से सांसद बने थे, तभी पंपी उनके संपर्क में आए थे। इसके बाद 2016 के MLC चुनाव में फर्रुखाबाद-इटावा सीट से सपा ने पंपी जैन को उतार दिया और वह जीत गए। 

pampi jain

पुष्पराज जैन उर्फ पंपी करीब 18 फर्मों या कंपनियों से जुड़े हुए हैं। बह प्रगति एरोमा ऑयल डिस्टिलर्स प्रा लिमिटेड के निदेशकों में से एक हैं। इस कंपनी का रजिस्टर्ड दफ्तर मुंबई में है। इसके अलावा पुष्पराज जैन 12 और कंपनियों के निदेशक और 5 कंपनियों में पार्टनर रह चुके हैं। 

पियूष जैन के पडोशी है पंपी जैन 

आयकर विभाग की टीम ने शुक्रवार सुबह-सुबह पुष्पराज जैन उर्फ पंपी के सभी ठिकानों पर छापेमारी की। छापेमारी अभी भी जारी है। पंपी जैन कन्नौज में पीयूष जैन के मोहल्ले में ही रहते हैं ,जंहा बीते हफ्ते ही आयकर विभाग की छापेमारी में पीयूष जैन के घर से 197 करोड़ रुपये कैश और 23 किलो सोना बरामद किया गया था। 


बीजेपी ने पीयूष जैन का कनेक्शन सपा से जोड़ दिया था, जिस पर सपा ने कहा था कि पंपी जैन के चक्कर में बीजेपी ने अपने ही आदमी पर रेड डलवा दी थी। वंही सपा एमएलसी पुष्पराज जैन उर्फ पंपी का नाम जब पीयूष जैन से जोड़ा गया तो उन्होंने (पंपी) ने इससे इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा था कि:- 

"पीयूष जैन से मेरे कोई लेना देना नहीं है, जैन मेरे नाम के आगे लगा और जैन उसके आगे, कन्नौज में इत्र का काम होता है, सपा के लिए मैंने ही इत्र लॉन्च किया था और उससे पहले भी दो दफा कर चुका हूं।"

सपा बोली- भाजपा का डर और बौखलाहट साफ है

आज यानी 31 दिसंबर को समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के साथ पुष्पराज जैन एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं। यंहा बह बीजेपी और आईटी रेड पर मीडिया से बातचीत कर सकते है। वंही समाजवादी पार्टी की ओर से इस पर प्रतिक्रिया सामने आई है. सपा की ओर से एक ट्वीट कर कहा गया है:-


अब देखना दिलचस्प होगा कि इस रेड और अखिलेश यादव की प्रेस कॉन्फ्रेंस का क्या असर सरकार या आगामी चुनाव पर होता है?