योगी सरकार ने डॉ. कफील खान को किया बर्खास्त

 | 
dr kafeel khan

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बाबा राघव दाव (BRD) मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले में योगी सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है। मेडिकल कॉलेज गोरखपुर के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. कफील खान को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है। आपको बता दे, इस मामले में डॉ. कफील खान को पहले ही निलंबित किया जा चुका था। वह जेल भी गए थे।

आज तक की एक रिपोर्ट अनुसार, आपके ध्यान के लिए बता दे, चार साल पहले बीआरीडी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत हो गई थी। इस मामले ने सियासी तूफान ला दिया था। कुछ महीने पहले ही सत्ता में आई योगी आदित्यनाथ सरकार चौतरफा घिर गई थी। इसके बाद जाँच बैठी और डॉ. कफील को निलंबित कर दिया गया। उनके खिलाफ विभागीय जांच शुरू की गई थी। सस्पेंशन के बाद डॉ. कफील को डीजीएमई के दफ्तर से अटैच कर दिया गया था।

dr kafeel khan

उनके खिलाफ लगे आरोपों की जांच एक कमेटी कर रही थी और अब चिकित्सा शिक्षा विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए डॉ. कफील खान को बर्खास्त कर दिया है। इस मामले में डॉ. कफील समेत 9 लोगों पर आरोप था। अपना निलंबन खत्म कराने को लेकर डॉ. कफील ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) से भी मदद मांगी थी। 

सरकार ने इस मामले में 15 अप्रैल 2019 को जांच अधिकारी की ओर से दायर जांच रिपोर्ट को ही मान लिया था। इस रिपोर्ट में डॉ. कफील खान को निर्दोष पाया गया था। रिपोर्ट में कहा गया था कि डॉ. कफील खान के खिलाफ भ्रष्टाचार या लापरवाही के सबूत नहीं मिले हैं। हाई कोर्ट के आदेश के बाद सरकार ने 24 फरवरी 2020 को कफील के खिलाफ फिर से हो रही जांच के आदेश वापस ले लिए।

dr kafeel khan

यूपी सरकार के इस फैसले के बाद माना जा रहा था कि डॉ. कफील खान को जल्द ही बहाल किया जा सकता है। लेकिन अब सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें बर्खास्त कर दिया है। इस संबंध में आयोग से चिकित्सा शिक्षा विभाग को पत्र भेजकर कफील के बर्खास्त होने की जानकारी दी।

कोर्ट जाएंगे कफील खान

dr kafeel khan
Image Source: BBC

बर्खास्त किए जाने के मामले में डॉ. कफील ने कहा कि उनका केस हाई कोर्ट में पेंडिंग है। कोर्ट ने 7 दिसंबर को तारीख दी है। उन्होंने कहा कि उन्हें न्यायपालिका पर भरोसा है। वह बर्खास्तगी के खिलाफ कोर्ट में अपील करेंगे।