शहीद हुआ भाई तो बहन को विदाई देने पहुँच गए साथी जवान, भाई बनकर निभाई सभी रश्मे...देखे वीडियो

 | 
crpf jawan

यूपी के रायबरेली जिले में सीआरपीएफ के जवान एक शहीद की बहन की शादी में भाई की भूमिका नें नजर आए। दरअसल, सीआरपीएफ के शहीद जवान की बहन की शादी हो रही थी। तभी कुछ जवान मंडप में पहुंच गए और भाई का फर्ज निभाया। जवानों ने शहीद की बहन को विदा भी किया। इस दौरान वहां मौजूद हर किसी की आंखें नम हो गई।

 दरअसल, CRPF जवान शैलेंद्र प्रताप सिंह पिछले साल पुलवामा में एक आतंकवादी हमले में शहीद हो गए थे। वे ड्यूटी के दौरान शहीद हुए थे, तब वे सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स की 110वीं बटालियन में तैनात थे। जिसके बाद अब इन जवानो ने भाई-चारे की मिशाल पेस करते हुए बहन को विदा किया। 

bsf jawan

भाई का फर्ज निभाते सीआरपीएफ जवानों की तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल हो गई हैं। तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि सीआरपीएफ जवान किस तरह फूलों की चादर हाथ में पकड़े शहीद की बहन को स्टेज तक ले जा रहे हैं। फोटो के साथ ही CRPF ने ट्वीट में लिखा है:-

"बड़े भाई के रूप में सीआरपीएफ के जवान कांस्टेबल शैलेंद्र प्रताप सिंह की बहन के विवाह समारोह में शामिल हुए। सीआरपीएफ की 110 बटालियन के कांस्टेबल शैलेंद्र प्रताप सिंह ने पुलवामा में आतंकवादी हमले का बहादुरी से मुकाबला करते हुए 05 अक्टूबर 2020 को सर्वोच्च बलिदान दिया।"

CRPF जवानो ने भाई बनकर करायी बिदाई!


शादी में शामिल सीआरपीएफ जवानों ने दुल्हन को आशीर्वाद दिया और शादी में गिफ्ट दिए। इस दौरान शहीद जवान शैलेंद्र प्रताप सिंह के पिता ने कहा, "मेरा बेटा अब इस दुनिया में नहीं है, लेकिन अब सीआरपीएफ जवानों के रूप में हमारे कई बेटे हैं जो सुख-दुख में हमेशा हमारे साथ खड़े रहते हैं।"

आतंकी हमले में शहीद हुए थे कांस्टेबल शैलेंद्र प्रताप सिंह

bsf jawann

बता दें कि पिछले साल 5 अक्टूबर को सीआरपीएफ के जवान शैलेंद्र प्रताप सिंह जम्मू कश्मीर के श्रीनगर के बाहरी इलाके में एक राजमार्ग पर ड्यूटी पर तैनात थे। हमले में सीआरपीएफ के कम से कम दो जवान शहीद हो गए और पांच घायल हो गए। आतंकवादियों ने उस समय हमला किया जब सीआरपीएफ के जवान, जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ, 5 अक्टूबर को पंपोर बाईपास पर सड़क खोलने का अभियान चला रहे थे।