ख़ुद चौथी पास इंसान ने बनाया अपने परिवार को सरकारी नौकरियों की खान, घर से IAS, IPS समेत 11 अफ़सर

 | 
Choudhary basant singh family

भारत में एक परिवार ऐसा है, जिसमें IAS और IPS समेत 11 फर्स्ट क्लास अफसर मौजूद हैं। इन सभी की सफलता का बड़ा क्रेडिट जाता है चौधरी बसंत सिंह श्योंकद को, जो परिवार के सबसे बड़े मुखिया थे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, चौधरी बसंत सिंह श्योंकद खुद चौथी क्लास पास थे। लेकिन उन्होंने अपने परिवार को ऐसी प्रेरणा दी, कि घर से एक के बाद एक अफसर निकले। आइये जानते है इस परिवार के बारे में थोड़ा विस्तार से। 

सरकारी नौकरियों की खान है चौधरी का परिवार

choudhary basant singh family

चौधरी बसंत सिंह श्योंकद का परिवार मूलरूप से हरियाणा के जींद जिले के गांव डूमरखां कलां के रहने वाला है। चौधरी बसंत सिंह श्योंकद 'रईस' नहीं थे, और ना ही ज्यादा पढ़े लिखे। उन्होंने खुद ही 4 जमात पास की थी। फिर भी पढ़ाई का मोल अच्छे से समझा और अपने बच्चों को पढ़ने-लिखने व आगे बढ़ने का भरपूर अवसर दिया। नतीजा यह रहा कि परिवार सरकारी नौकरियों की खान बन गया। अकेले बसंत सिंह के परिवार ने देश को दो IAS, एक IPS समेत 11 क्लास वन असफ़र हैं। 

बसंत श्योंकद का मई 2020 में निधन हो गया,  कहा जाता है कि कम पढ़े-लिखे बसंत की दोस्ती हमेशा बड़े अफसरों से रही। उन्होंने ये सब देखते हुए अपने बच्चों को शिक्षा दी और इस तरह के नक़्शे कदम पर चलने के लिए प्रेरित किया। 

बसंत सिंह के चारों बेटे अफसर

choudhary basant singh family 3
Image source: One India

बसंत सिंह श्योंकद के परिवार में कामयाबी की शुरुआत बेटा-बेटियों से हुई। उसी विरासत को अगली पीढ़ी भी आगे बढ़ा रही है। उनके चारों बेटे क्लास वन के अफ़सर हैं, जबकि बहु और पोता आईएएस हैं। इसके साथ, उनकी पोती आईपीएस है, तो एक आईआरएस अफसर है। एक दोहती आईआरएस है। इनकी तीनों बेटियों ने उस जमाने में ग्रेजुएशन की थी।

बेटा-बेटियों के बच्चे भी अफसर 

बसंत सिंह के बड़े बेटे रामकुमार श्योकंद रिटायर्ड प्रोफेसर हैं और उनका बेटा यशेंद्र आईएएस है और बेटी स्मिति चौधरी अंबाला में बतौर रेलवे एसपी तैनात हैं। स्मिति के पति बीएसएफ में आईजी हैं। वहीं चौधरी बसंत के दूसरे बेटे कॉन्फेड में जीएम थे और उनकी पत्नी डिप्टी डीइओ रह चुकी हैं।

choudhary basant singh family
Image source: One India

तीसरे बेटे वीरेंद्र एसई थे। इनकी पत्नी इंडियन एयरलाइंस में डिप्टी मैनेजर रही हैं। बसंत सिंह के चौथे बेटे का नाम गजेंद्र सिंह हैं। ये भारतीय सेना में कर्नल पद रिटायर हुए हैं। वर्तमान में बतौर निजी पायलट सेवाएं दे रहे हैं।

बसंत सिंह की बड़ी बेटी बिमला के पति इंद्र सिंह एडवोकेट हैं। इनके बेटे अनिल ढुल बीबीएमबी में एसई विजिलेंस हैं। दूसरी बेटी कृष्णा प्रिंसिपल पद से रिटायर हो चुकी हैं। कृष्णा की शादी रघुबीर पंघाल से हुई, जो आर्मी में मेजर रहे और सेना से रिटायर होने के बाद एचएयू में विभागाध्यक्ष रहे।

बसंत सिंह के लिए इससे ज्यादा गर्व की क्या बात हो सकती थी कि जिस सपने को उन्होंने देखा उसे पुरे परिवार ने मिलकर पूरा किया। और घर से एक के बाद एक फसर निकलते गए।