मुस्लिम महिलाओं की बोली लगाने वाली 'बुली बाई' ऐप की मास्टरमाइंड निकली महिला, गिरफ्तार!

 | 
bulli bai app

बुली बाई ऐप देशभर में इस बक्त चर्चा का विषय बनी हुई है। यंहा मुश्लिम महिलाओ की उनकी परसनल डिटेल के साथ बोली लगाई जाती थी। ऐसा नहीं था कि इस नामुराद ऐप पर केवल आम मुश्लिम महिलाएं, बल्कि देश की जानी मानी हस्तियों को निशाना बनाया गया था। जिसके बाद सोशल मीडिया पर इस ऐप का पुरजोर विरोध सुरु हो गया। 

वंही अब 'बुली बाई ऐप' पर मुस्लिम महिलाओं की बोली लगवाने के मामले में अजब खुलासा हुआ है। पुलिस ने इस मामले में उत्तराखंड से एक युवती को अरेस्ट किया है। और इस महिला पर बुली बाई नाम के ऐप के जरिए मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें अपलोड करने और नीलामी करने का आरोप है। 


उत्तराखंड से गिरफ्तार हुई इस महिला पर आरोप है कि इसने ऐप पर मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें अपलोड की थीं और उनकी बोली लगाई थी। महिला को जांच के लिए मुंबई लाया जा रहा है। उसे ट्रांजिट रिमांड के लिए उत्तराखंड कोर्ट में पेश किया जाएगा। ट्रांजिट रिमांड मिलने के बाद बुधवार को उसे मुंबई लाया जाएगा।

वहीं, अदालत ने 'बुली बाई' ऐप मामले में गिरफ्तार इंजीनियरिंग छात्र को 10 जनवरी तक मुंबई पुलिस की हिरासत में भेज दिया है। तकरीबन आधे घंटे की सुनवाई के बाद आरोपी को 10 जनवरी तक के लिए पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है।

'बुली बाई ऐप' की मास्टरमाइंड निकली महिला 

मुंबई पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मुख्य आरोपी युवती 'बुली बाई' ऐप से जुड़े तीन अकाउंट हैंडल कर रही थी। मामले में मुख्य आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है। बताया जा रहा है कि वह महिला मामले में मुख्य आरोपी है। इससे पहले सोमवार को बेंगलुरु से 21 वर्षीय इंजीनियरिंग छात्र विशाल कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। दोनों मामले में सह-आरोपी हैं और एक-दूसरे को जानते हैं।


सह आरोपी विशाल कुमार ने 'Khalsa supremacist' के नाम से खाता खोला। मुख्य आरोपी युवती और विशाल झा दोनों अच्छे दोस्त हैं। सोशल मीडिया के माध्यम से दोनों की दोस्ती हुई थी।  पुलिस के मुताबिक, वे फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर दोस्त हैं। इसलिए एक-दूसरे से संपर्क में रहते थे। 

मुंबई पुलिस के मुताबिक, दोनों नाम बदल कर सोशल मीडिया में अकाउंट चलाते थे। इन्होंने सिख संगठनों के नाम से कुछ अकाउंट खोल रखे थे। साइबर सेल की टीम इन सोशल अकाउंट की जांच कर रही है। फिलहाल महिला की पहचान उजागर नहीं की गई है।

क्या है पूरा मामला?

गौरतलब है कि मुंबई पुलिस की साइबर सेल को मिली शिकायत के बाद से ही साइबर सेल इस मामले की जांच कर रही थी। एफआईआर के मुताबिक बुली बाई एक ऐसा एप्लिकेशन है जहां पर नामचीन मुस्लिम महिलाओं की तस्वीर पोस्ट कर उनकी बोली लगाई जाती थी।

यह मामला सबसे पहले 1 जनवरी को सामने आया था। आरोपियों ने कई मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरों को एडिट कर GitHub प्लेटफार्म पर बने 'बुली बाई ऐप' पर ऑक्शन के लिए डाला था। इनमें कुछ महिला जर्नलिस्ट, एक्टिविस्ट और लॉयर शामिल हैं। इस मामले पर कई लोगों ने सवाल उठाए थे और लोगों की शिकायतें मिलने लगी थी।  

जिसके बाद मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने अज्ञात लोगों के खिलाफ IPC की धारा 354D, 509, 500, 153A, 295A, 153B, IT की धारा 67 की सबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था और जांच शुरू कर दी थी।