भिवानी के डाडम में खिसका पहाड़, 20-25 लोग दबे... कइयों के मृत एबं घायल होने की खबर!

 | 
bhiwani

भिवानी के डाडम में पहाड़ का बड़ा हिस्सा ढहने से तीन की मौत हो गई और दो की हालत गंभीर है। मरने वाले छतीसगढ़, राजस्थान और यूपी के थे। मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर, तोशाम एरिया में शनिवार सुबह 8:30 बजे अरावली की पहाड़ियों में खनन के दौरान पहाड़ का एक बड़ा हिस्सा दरक गया। इसमें 20 से 25 लोग पत्थरों के नीचे दब गए। शाम साढ़े 3 बजे तक 3 मजदूरों के शव निकाल लिए गए।

 घायलों को हिसार के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। कुछ और लोगों के भी पहाड़ के नीचे दबे होने की आंशका जताई जा रही है। पहाड़ ढहने से चार माइनिंग मशीन भी नीचे दब गई। बचाव कार्य में यहां काम करने वाले, स्थानीय लोगों के अलावा अन्य लोग भी लगे हैं। हादसे की सूचना मिलते ही भिवानी जिला प्रशासन ने राहत और बचाव कार्य शुरू करवाया। इसमें एनडीआरएफ की टीमें भी लगी हैं।

bhiwani

वहीं पहाड़ का जो हिस्सा गिरा, उसमें तीन बड़े पत्थर हैं, जिन्हें हटाने में दिक्कत आ रही है। पुलिस और प्रशासन ने मीडिया के घटनास्थल पर जाने पर पाबंदी लगा दी। यह घटना सुबह की बताई जा रही है। पहाड़ के दरकते ही आस पास हड़कंप मच गया। बचाव कार्य में लोग जुट गए। 

रोक के बाद फिर सुरु हुआ खनन 

आपको बता दे, भिवानी जिले में तोशाम इलाके के खानक और डाडम एरिया में अरावली के पहाड़ों में बड़े पैमाने पर खनन होता है। यहां का पत्थर हरियाणा के अलावा राजस्थान भी जाता है। प्रदूषण की वजह से दो महीने पहले नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने यहां खनन पर रोक लगा दी थी। 

ये रोक हटने के बाद शुक्रवार को ही दोबारा खनन कार्य शुरू हुआ और शनिवार सुबह 8:30 बजे यह हादसा हो गया। जिस समय पहाड़ दरका, उस समय यहां आधा दर्जन से ज्यादा पोकलेन मशीनों के जरिये खनन किया जा रहा था। पत्थरों की ढुलाई के लिए कई डंपर और ट्रॉले वहां मौजूद थे। ये सब पहाड़ के बड़े पत्थरों के नीचे आ गए।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जताया दुख

bhiwani

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भिवानी के डाडम हादसे पर दुख जताया है। जिला प्रशासन के साथ मिलकर मुख्यमंत्री खुद रेस्कयू आपरेशन पर नजर बनाए हुए हैं।