पाकिस्तान की जीत पर जश्न मनाने बाले कश्मीरी छात्रों का केस नहीं लड़ेंगे आगरा के वकील

 | 
agra student

आगरा में टी-20 विश्व कप में पाकिस्तान की जीत पर जश्न मनाने के आरोपी कश्मीरी छात्रों के खिलाफ पुलिस मजबूत साक्ष्य जुटा रही है। व्हाट्सएप स्टेट्स पर डाले गए वीडियो की सीडी बनाई गई है। वही चैटिंग के स्क्रीन शॉट लिए गए हैं। इनकी सीडी बनाकर फोरेंसिक लैब भेजा जाएगा। 

वंही टी-20 विश्वकप में भारत के खिलाफ पाकिस्तान क्रिकेट टीम की जीत पर जश्न मनाने वाले कश्मीरी छात्रों का केस आगरा के वकील नहीं लड़ेंगे। वकीलों के इस फैसले के चलते छात्रों के परिवार को दूसरे शहरों के वकील से संपर्क करना पड़ रहा है। तीनों छात्रों पर टी-20 वर्ल्ड कप मैच में भारत के खिलाफ पाकिस्तान की जीत पर जश्न मनाने पर पुलिस ने देशद्रोह की कार्रवाई की है।

पाकिस्तान की जीत का जश्न पड़ा महंगा!

agra student bakeel

आरबीएस कॉलेज के इंजीनियरिंग संकाय, बिचपुरी के कश्मीरी छात्र अरशीद यूसुफ, इनायत अल्ताफ शेख और शौकत अली गनी ने पाकिस्तान की जीत पर जश्न मनाया। इतना ही नहीं तीनो आरोपियों पर देश विरोधी गतिविधि करने का भी आरोप लगा। आरोप है आरोपियों ने व्हाट्सएप पर स्टेटस डाला, कश्मीर को अपना अलग देश बताया। 

इन सब घटनाओ के सार्वजानिक होने के बाद, तीनो छात्रों पर कॉलेज प्रशाशन ने संज्ञान लेते हुए निलंबित कर दिया। वंही पुलिस ने मामला दर्ज कर तीनो आरोपियों पर राजद्रोह, साइबर आतंकवाद सहित अन्य धारा लगाई। इसका सीधा मतलब एक मैच, तीनो छात्रों के लिए बड़ा भारी पड़ गया। पुलिस ने केस दर्ज कर तीनो को जेल भेज दिया। 

बकीलो ने केस लड़ने से साफ़ किया इनकार 

अमर उजाला की एक खबर अनुसार, आगरा के वकील असोसिएशन ने सामूहिक रूप से देशद्रोह के आरोपी तीन कश्मीरी छात्रों को कानूनी सहायता देने से इनकार कर दिया। वकीलों ने एक बयान जारी कर कहा कि कोई भी देश के खिलाफ जाने वाले लोगों की मदद नहीं करेगा। 

आगरा ऐडवोकेट असोसिएशन के प्रेजिडेंट सुनील शर्मा ने कहा कि छात्रों को राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के बजाय अपनी पढ़ाई पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा, 'वे हमसे कानूनी मदद लेने के काबिल नहीं है।'

agra student bakeel

वकीलों द्वारा केस ना लड़ने की बात करने के बाद, छात्रों के परिजनों ने  जम्मू कश्मीर स्टूडेंट एसोसिएशन से मदद मांगी। जिसके बाद एसोसिएशन ने उन्हें मदद देने का भरोषा दिया। एसोसिएशन ने दिल्ली की एक संस्था से संपर्क किया है, संस्था ने आगरा से बाहर बकील का इंतजाम करने की बात कही है। 

कोर्ट-कचहरी में हुआ आरोपियों का विरोध 

पुलिस द्वारा केस दर्ज होने के बाद, तीनो आरोपियों को कोर्ट में पेस किया गया। कोर्ट परिसर में आरोपी छात्रों को वकीलों के गुस्से का सामना करना पड़ा था। वकीलों ने पेशी के लिए लाए गए छात्रों के सामने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए और उनके साथ धक्का-मुक्की की थी।