वीर चक्र से सम्मानित अभिनंदन, PAK का F-16 लड़ाकू विमान मार गिराने के लिए सम्मान

 | 
abhinandan

बालाकोट एयरस्ट्राइक के अगले दिन पाकिस्तान के F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराने वाले अभिनंदन वर्तमान को आज 'वीर चक्र' से सम्मानित किया गया। इस दौरान कुछ वीरों को मरणोपरांत भी सम्मान मिला। राष्ट्रपति भवन में आयोजित अलंकरण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी हिस्सा लिया। 

बालाकोट एयरस्ट्राइक (Balakot Airstrike) के समय अभिनंदन वायुसेना में विंग कमांडर थे और उन्होंने पाकिस्तान के F-16 को मार गिराया था। जिसके बाद उन्हें कुछ दिनों पहले प्रमोसन मिला और बह ग्रुप कैप्टन बन गए। 

अभिनंदन ने मिग से मार दिया था पाकिस्तान का विमान


आपको याद होगा, 14 फरवरी 2019 को पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammad) ने पुलवामा में CRPF के काफिले पर फिदायीन हमला किया था। इस हमले में भारत के 40 जवान शहीद हो गए थे। जिसके बाद पुरे भारत में रोष ब्याप्त हो गया और देश बदला लेने की बात करने लगा। 

लोगो की भावनाओ को ध्यान में रखते हुए, और शहीद जवानो के बलिदान को याद करते हुए भारत सरकार ने पाकिस्तान में एयर स्ट्राइक कर दी। मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय वायुसेना ने 26-27 फरवरी की रात पाकिस्तान के बालाकोट में एयरस्ट्राइक की थी। भारत के इस हवाई हमले में पाकिस्तान में बैठे 300 से ज्यादा आतंकी मारे गए थे। 

एयरस्ट्राइक के अगले दिन 27 फरवरी को पाकिस्तान की वायुसेना ने भारत में घुसने की कोशिश की, लेकिन भारतीय वायुसेना ने उसे खदेड़ दिया। तत्कालीन विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान उस समय Mig-21 उड़ा रहे थे। उन्होंने उसी विमान से पाकिस्तान के F-16 को मार गिराया था। 

पाकिस्तान में गिरफ्तार हो गए थे अभिनंदन 


अभिनंदन का विमान पाकिस्तान की सीमा में क्रैश हो गया, जिसके बाद पाकिस्तानी सेना ने उन्हें बंदी बना लिया। भारत के दबाव में पाकिस्तान ने करीब 60 घंटे बाद अभिनंदन को छोड़ा था। 

आपको बता दे, कि F-16 बहुत ही एडवांस्ड लड़ाकू विमान था, जिसे अमेरिका ने बनाया था। जबकि Mig-21 रूस का बनाया 60 साल पुराना विमान था। अभिनंदन ने Mig-21 से F-16 को मार गिराया था। इससे दुनियाभर में उनकी तारीफ हुई थी। 

सूर वीरो का भारत सरकार ने किये सम्मान 

जम्मू-कश्मीर में एक ऑपरेशन के दौरान ए ++ श्रेणी के आतंकवादियों को मारने के लिए शहीद नायब सूबेदार सोमबीर को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया। पांच आतंकवादियों को मौत के घाट उतारने वाले मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल को भी मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया। 

army officer

वहीं कोर ऑफ इंजीनियर्स के सैपर प्रकाश जाधव को मरणोपरांत दूसरा सबसे बड़ा शांतिकालीन वीरता पुरस्कार कीर्ति चक्र से सम्मानित किया गया। पूर्व पूर्वी सेना कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (सेवानिवृत्त), इंजीनियर इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह, दक्षिणी नौसेना कमांडर वाइस एडमिरल अनिल चावला को परम विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया।

4 पैरा (स्पेशल फोर्सेज) के लांस नायक संदीप सिंह को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शौर्य चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया। भारतीय सेना की पंजाब रेजिमेंट के सिपाही बृजेश कुमार को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया।

army officer

55वीं राष्ट्रीय रायफल्स के सिपाही हरि सिंह को साल 2019 में जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में एक आतंकवादी को मार गिराने और एक को घायल करने के लिए मरणोपरांत शौर्य चक्र पुरस्कार से सम्मानित किया गया। जम्मू-कश्मीर पुलिस के सब इंस्पेक्टर इमरान हुसैन तक को मरणोपरांत शौर्य चक्र प्रदान किया गया।