80 साल के बुजुर्ग को भेजा 80 करोड़ का बिल, देखते ही लगा सदमा, अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती

मुंबई के वसई इलाके से एक बेहद अजीब मामला सामने आया है, जहां एक 80 साल के बुजुर्ग को 80 करोड़ का बिजली का बिल थमा दिया गया। ऐसे में हैरान करने वाली बात यह है कि यह 80 करोड़ का बिजली का बिल सिर्फ 2 महीने का है, जिसे देखते ही 80 साल के
 | 
80 साल के बुजुर्ग को भेजा 80 करोड़ का बिल, देखते ही लगा सदमा, अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती

मुंबई के वसई इलाके से एक बेहद अजीब मामला सामने आया है, जहां एक 80 साल के बुजुर्ग को 80 करोड़ का बिजली का बिल थमा दिया गया। ऐसे में हैरान करने वाली बात यह है कि यह 80 करोड़ का बिजली का बिल सिर्फ 2 महीने का है, जिसे देखते ही 80 साल के बुजुर्ग का ब्लड प्रेशर बढ़ गया और उनकी हालत इतनी गंभीर हो गई कि उन्हें तुरंत ही अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

80 साल के बुजुर्ग को भेजा 80 करोड़ का बिल, देखते ही लगा सदमा, अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती
Social Media

यह पूरा मामला मुंबई के वसई इलाके का है, जहां रहने वाले गणपत नाइक की तबीयत बिगड़ने के कारण उनका पूरा परिवार सदमे में है। वह इस मामले की जानकारी देते हुए उनके परिवार के लोगों ने बताया कि इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई कंपनी की ओर से उनका 2 महीने का बिल 80 करोड़ 30 लाख 89 हजार 6 रूपये का आया है।

बता दे नाइक परिवार का चावल मिल का कारोबार है। बीते 20 साल से नायक परिवार वसई में एक चावल मिल चलाता है। लॉकडाउन की वजह से उनका कारोबार पूरी तरह से खत्म हो गया है। ऐसे में अब इतने भारी बिल के बाद परिवार के सभी सदस्य सदमे में है और परिवार को नहीं समझ में आ रहा कि उन्हें अब आगे क्या करना चाहिए।

80 साल के बुजुर्ग को भेजा 80 करोड़ का बिल, देखते ही लगा सदमा, अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती
Social Media

वही इस बिल को लेकर 80 साल गणपति का कहना है कि बिजली विभाग ऐसा कैसे कर सकता है? बिल भेजने से पहले क्या वह मीटर नहीं चेक करते? ऐसे कैसे किसी को गलत बिल भेज सकते हैं? हर महीने के हिसाब से अब तक का सबसे ज्यादा बिल 54000 का आया था। वही लॉकडाउन के दौरान मिल कई महीने बंद रही। इसके बावजूद 2 महीने यानी दिसंबर और जनवरी का इतना बिल कैसे आ सकता है।

परिवार इस मामले को लेकर लगातार बिजली विभाग में पूछताछ कर रहा है। वहीं महाराष्ट्र स्टेट इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड ने इस मामले को लेकर कहा है कि यह एक अनजाने में हुई गलती थी और बिल जल्द ही सही करके दोबारा भेज दिया जाएगा।

80 साल के बुजुर्ग को भेजा 80 करोड़ का बिल, देखते ही लगा सदमा, अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती
Social Media

वहीं इलेक्ट्रिसिटी कंपनी के एडिशनल एग्जीक्यूटिव इंजीनियर सुरेंद्र ने कहा कि यह गड़बड़ी बिजली मीटर की रीडिंग लेने वाली एजेंसी की तरफ से हुई है। ऐसे में इस मामले की जांच पड़ताल की जा रही है। एजेंसी ने 6 के बजाय 9 अंकों का बिल बना दिया था।

याद दिला दें कि बिजली के लगातार बढ़ते बिल्कुल लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना पिछले कुछ महीनों से लगातार आंदोलन कर रही है। इसी कड़ी में मुंबई, पुणे, औरंगाबाद में मनसे कार्यकर्ता ने पिछले कुछ दिनों के दौरान तोड़फोड़ भी की गई है। फिलहाल इस मामले की जांच पड़ताल जारी है और जांच पड़ताल के बाद गणपत नाइक के परिवार को नया बिल पेश किया जाएगा।